Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2017 · 2 min read

रिश्तो की विडंबना

कभी – कभी इंसान अपनी महत्वआकांक्षाओं में इतना लिन हो जाता हैं, उसे समाज, घर, देश, की परवाह नही होती | रिश्ते ताने – बाने का वह गला घोट देता हैं.
कुछ ऐसी ही कहानी मंजू देवी की हैं, जो हालात कि मारी महत्वकांक्षा से परे हैं | उसके पति मोहनलाल का किराने का दुकान था, जिससे पुरे परिवार का पालन पोषन होता था | मगर कालगती के चक्र ने वक्त ऐसी पहेली बनाई , मोहनलाल का कुछ वर्षो के बाद निधन हो गया. मोहनलाल के भाईयों ने उसकी संपत्ति ऐंठ ली|
उसकी पत्नी के साथ चार बच्चों को घर से निकाल दिया |
पुरा परिवार निष्ठुर ,संवेदनहीन ,महत्वकांक्षी हो गया | मंजू के पिता खेती करते थे, भाई के हाथों में सत्ता आने के बाद , भाई ने बहन को घर में ना रखा |
मंजू के साथ उसके चार बच्चों की हालत बद से बत्तरा , चिंताजनक हो गई , ना सर पर छत हैं, ना दो जुन की रोटी, पापी पेट के लिए , आस पड़ोस के लोगो ने भी कोई दरियादिली नहीं दिखाई |
मजबूरन मंजु को मुक्तिधाम में रात गुजराना पङता हैं, एक तरफ शमशान में जलती चिता, दुशरी तरफ जलता चुल्हा, जो अमानवता की परिकाष्ठा को हिला दे |
यह देखकर दिल और आत्मा टुटेजा जाता हैं, शव कि जली लकङी से आग सेकते हुए ये लोग. मंजू की तिन बेटी और एक बेटा हैं, रमा, लता, सरिता ,केशव, रचना,
रमा सातवीं में पढ़ती थी, लता, सरिता पाँचवीं में, केशव रचना दुशरी में थे. इनकी पढ़ाई छुट गई हैं,|
कभी जिंदगी का मजा लेने वाले क्षण को याद करते हुए , मंजु और इनके बच्चों की आँखें भर आती हैं, भला इतना भी पापी निष्ठुर कोई हो सकता हैं|
बच्चे मजदूरी करने पर विवश हैं, ये कहाना जिंदगी की वास्तविकता को दिखाता हैं, इंसान मतलबी और भौतिकवादि हो चला हैं, जहाँ पर रिश्ते – नाते संवेदनशुन्य हो गए हैं||||

अवधेश कुमार राय..

Language: Hindi
339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
करगिल विजय दिवस
करगिल विजय दिवस
Neeraj Agarwal
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Meri najar se khud ko
Meri najar se khud ko
Sakshi Tripathi
वो सांझ
वो सांझ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बाल नहीं खुले तो जुल्फ कह गयी।
बाल नहीं खुले तो जुल्फ कह गयी।
Anil chobisa
Harmony's Messenger: Sauhard Shiromani Sant Shri Saurabh
Harmony's Messenger: Sauhard Shiromani Sant Shri Saurabh
World News
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
मोहब्बत
मोहब्बत
AVINASH (Avi...) MEHRA
3176.*पूर्णिका*
3176.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" रिवायत "
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
"बचपन"
Tanveer Chouhan
मुर्शिद क़दम-क़दम पर नये लोग मुन्तज़िर हैं हमारे मग़र,
मुर्शिद क़दम-क़दम पर नये लोग मुन्तज़िर हैं हमारे मग़र,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
किसका  हम शुक्रिया करें,
किसका हम शुक्रिया करें,
sushil sarna
यादें मोहब्बत की
यादें मोहब्बत की
Mukesh Kumar Sonkar
मन
मन
SATPAL CHAUHAN
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"कितना कठिन प्रश्न है यह,
शेखर सिंह
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
पूर्वार्थ
लिफाफे में दिया क्या है (मुक्तक)
लिफाफे में दिया क्या है (मुक्तक)
Ravi Prakash
जल से निकली जलपरी
जल से निकली जलपरी
लक्ष्मी सिंह
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
दान
दान
Mamta Rani
आज का मुक्तक
आज का मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
बोलना , सुनना और समझना । इन तीनों के प्रभाव से व्यक्तित्व मे
बोलना , सुनना और समझना । इन तीनों के प्रभाव से व्यक्तित्व मे
Raju Gajbhiye
ख़ामोशी
ख़ामोशी
Dipak Kumar "Girja"
कठिन समय रहता नहीं
कठिन समय रहता नहीं
Atul "Krishn"
मेरी तकलीफ़
मेरी तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
*काल क्रिया*
*काल क्रिया*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...