Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 1 min read

राह नीर की छोड़

राह नीर की छोड़

राह नीर की छोड़
बनो तुम धीर जगत में

राह पीर की छोड़
बनो तुम वीर जगत में

दुर्बलता को छोड़
बनो तुम कर्मवीर जगत में

कायरता को छोड़
बनो तुम सज्जन जगत में

छोड़ बंधन का मोह
बनो तुम सन्यासी

विकारों की राह छोड़
बनो तुम सामाजिक

संस्कारों से करो मोह
बनो तुम संस्कारी

अहंकार को छोड़
बनो तुम स्वाभिमानी

छोड़ व्यर्थ का मौन
बनो तुम सुवक्ता

राह घृणा की छोड़
वरो तुम मानवता

राह जोश की छोड़
करो तुम काम होश में

छोड़ काँटों का डर
पुष्प बन खिलो जगत में

राह शत्रुता की छोड़
बनाओ मित्र जगत में

पकड़ कर्म की राह
बनो विख्यात जगत में

राह नीर की छोड़
बनो तुम धीर जगत में

राह पीर की छोड़
बनो तुम वीर जगत में

Language: Hindi
1 Like · 149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
मुझको जीने की सजा क्यूँ मिली है ऐ लोगों
मुझको जीने की सजा क्यूँ मिली है ऐ लोगों
Shweta Soni
दर्द को उसके
दर्द को उसके
Dr fauzia Naseem shad
23/108.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/108.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"रियायत के रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
Rituraj shivem verma
जिन्दगी के रंग
जिन्दगी के रंग
Santosh Shrivastava
*समारोह को पंखुड़ियॉं, बिखरी क्षणभर महकाती हैं (हिंदी गजल/ ग
*समारोह को पंखुड़ियॉं, बिखरी क्षणभर महकाती हैं (हिंदी गजल/ ग
Ravi Prakash
ज़िन्दगी की बोझ यूँ ही उठाते रहेंगे हम,
ज़िन्दगी की बोझ यूँ ही उठाते रहेंगे हम,
Anand Kumar
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
बापू तेरे देश में...!!
बापू तेरे देश में...!!
Kanchan Khanna
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय।
बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय।
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
Save water ! Without water !
Save water ! Without water !
Buddha Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आहट
आहट
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
Shinde Poonam
खिलते फूल
खिलते फूल
Punam Pande
करुणा का भाव
करुणा का भाव
shekhar kharadi
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
प्रणय गीत
प्रणय गीत
Neelam Sharma
हरा न पाये दौड़कर,
हरा न पाये दौड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*दीवाली मनाएंगे*
*दीवाली मनाएंगे*
Seema gupta,Alwar
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मनुष्यता कोमा में
मनुष्यता कोमा में
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुझे क्या मालूम था वह वक्त भी आएगा
मुझे क्या मालूम था वह वक्त भी आएगा
VINOD CHAUHAN
अगर मुझे तड़पाना,
अगर मुझे तड़पाना,
Dr. Man Mohan Krishna
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
शेखर सिंह
कभी बेवजह तुझे कभी बेवजह मुझे
कभी बेवजह तुझे कभी बेवजह मुझे
Basant Bhagawan Roy
आत्मविश्वास की कमी
आत्मविश्वास की कमी
Paras Nath Jha
दूर देदो पास मत दो
दूर देदो पास मत दो
Ajad Mandori
Loading...