Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

राम दर्शन

राम आदि से अनंत है ,
राम से जीव जीवंत है ,
राम ही कल्प है , राम ही संकल्प है ,
राम ही सृष्टि है ,राम ही दिव्य दृष्टि है ,
राम ही पालनहार है , राम ही तारणहार है ,
राम ही शक्ति है , राम ही मुक्ति है ,
राम ही आशा है ,राम ही अभिलाषा है ,
राम ही प्रतिपादक है , राम ही परिचालक है ,
राम ही संघर्ष है ,राम ही उत्कर्ष है ,
राम ही शूरता है , राम ही निर्भीकता है ,
राम ही प्रीति है , राम ही ज्योति है ,
राम ही प्राण है , राम ही निर्वाण है ,

2 Likes · 3 Comments · 185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
Seema Verma
हाँ बहुत प्रेम करती हूँ तुम्हें
हाँ बहुत प्रेम करती हूँ तुम्हें
Saraswati Bajpai
// कामयाबी के चार सूत्र //
// कामयाबी के चार सूत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
M.A वाले बालक ने जब तलवे तलना सीखा था
M.A वाले बालक ने जब तलवे तलना सीखा था
प्रेमदास वसु सुरेखा
औकात
औकात
साहित्य गौरव
In lamho ko kaid karlu apni chhoti mutthi me,
In lamho ko kaid karlu apni chhoti mutthi me,
Sakshi Tripathi
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
Soniya Goswami
ये तो मुहब्बत में
ये तो मुहब्बत में
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
"हूक"
Dr. Kishan tandon kranti
When you realize that you are the only one who can lift your
When you realize that you are the only one who can lift your
Manisha Manjari
*अध्याय 7*
*अध्याय 7*
Ravi Prakash
चेहरे की पहचान ही व्यक्ति के लिये मायने रखती है
चेहरे की पहचान ही व्यक्ति के लिये मायने रखती है
शेखर सिंह
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
Er. Sanjay Shrivastava
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
"छत का आलम"
Dr Meenu Poonia
पार्वती
पार्वती
लक्ष्मी सिंह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
"दुनियादारी के रिश्तों की पींग मिज़ाजपुर्सी से मातमपुर्सी तक
*Author प्रणय प्रभात*
शिकारी संस्कृति के
शिकारी संस्कृति के
Sanjay ' शून्य'
फितरत
फितरत
umesh mehra
3261.*पूर्णिका*
3261.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
gurudeenverma198
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
Anil chobisa
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
कवि दीपक बवेजा
शराफ़त के दायरों की
शराफ़त के दायरों की
Dr fauzia Naseem shad
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
manisha
Loading...