Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2019 · 4 min read

!!! राम कथा काव्य !!!

हे ! जग के ईश,
पुकारता जगदीश ।

दे दो एक आशीष,
चरणों मे नमन शीश ।

हे! गौरी पुत्र करता प्रणाम,
निर्विघ्न पूर्ण हो यह काम ।

मैं छोटा सा दीन हीन,
करता प्रयास होकर लीन ।

कर गुरु का सुमिरन,
एकाग्रचित किया ध्यान ।

जब जब धरा पर अधर्म बढ़ा,
पापियों पर पाप का नशा चढ़ा ।

सरयू तीरे अयोध्या पावन धरा,
दशरथ है राजा सुन लो जरा ।

साधु समाज हुआ बड़ा व्याकुल,
तब प्रभु आये अयोध्या के रघुकुल ।

शुक्ल पक्ष नवमी तिथि था पावन दिवस,
झूम उठा अवध बरसे खुशी के नवरस ।

राम लक्ष्मण भरत शत्रुहन राज दुलारे,
देख देख मुख देव भी करें जय जय कारे ।

नभ भी गूंज उठा सुन देवो की पुकार,
सब जन कह उठे करो प्रभू अब उद्धार ।

चौथेपन में राजा दशरथ ने सुत पाये,
राम छवि देख हर्ष से आँसू झलक आये ।

शिक्षा दीक्षा पाकर हुए प्रवीण,
सुकुमार थे फिर भी आ गए रण ।

देख ताड़का न हुए तनिक विचलित,
तजे प्राण प्रभू की वीरता अतुलित ।

खेल खेल में शिव धनुष तोड़ा,
जनक दुलारी से नाता जोड़ा ।

कैकई मंथरा से गए छले,
पिता आज्ञा पर वन चले ।

छोड़ सारे सुख तज अपनो को,
मिटाने अधर्म सङ्ग ले चले बाणों को ।

चित्रकूट में भरत से हुआ मिलाप,
सुन पिता गमन हुआ बड़ा संताप ।

भरत जैसा भ्राता नही जग में,
प्रभू बसे भरत के रग रग में ।

महल के बाहर बनाई एक कुटिया,
उसमें रहते प्यारे भरत भईया ।

दिन रात प्रभू सेवा में बिताते,
चौदह बरस गिन गिन दिन निकालते ।

इंद्र सुत जयंत ने रखा रूप काग,
मैया के पैर में मार चोंच गया भाग ।

प्रभू ने तिनके का चलाया बाण,
तीन लोक में मिली न शरण ।

नारद जी की सलाह पर आया प्रभू पास,
प्रभु ने किया एक आंख का ह्रास ।

वन वन घूमे आई रावण की बहना,
सुपर्णखा नाम उसका क्या कहना ।

काम मोह माया से प्रभु को लुभाया,
जतन जतन कर थकी फिर है डराया ।

राम अनुज का क्रोध जगाया,
काट नाक कान उसको भगाया ।

रोती बिलखती पहुंची पास खर दूषण,
ले एक विशाल सेना हुआ भारी रण ।

खर दूषण गया युद्ध मे खेत,
ढह गई सारी सेना जैसे हो रेत ।

सुन रावण अब हुआ बेहाल,
कौन नर ऐसा जिसने किया हाल ।

अब दशानन ने मारीच को पटाया,
मारीच था माहिर रचने में माया ।

मारीच ने लंकापति को समझाया,
राम नर नही उसने भेद बताया ।

मारीच बन छल का मृग पंचवटी आया,
सीताजी के मन को बहुत ही भाया ।

कंचन थी उसकी काया,
छुपी हुई थी उसमें माया ।

रख साधू वेश रावण आया,
लक्ष्मण रेखा लांघ न पाया ।

जब जानकी आई रेखा पार,
कर हरण करता जाता हाहाकार ।

जटायू ने उसको ललकारा,
हुआ युद्ध खग गया हारा ।

घायल होकर पक्षी करे पुकार राम राम ,
प्रभू मिलन की आस में रखी सांसे थाम।

वन वन प्रभू खोजे सीता मैया,
कहाँ गई मेरी वो जीवन नैया ।

पेड़ पेड़ से पूछे सीता का हाल,
दोनों भ्राता ढूंढते जाते होकर बेहाल ।

देख जटायु को सब हाल जाना,
असुर राज रावण को पहचाना ।

धन्य जटायू जिसने किया प्रभू वंदन,
साधु संत भी कर न पाए प्रभू दर्शन।

सुग्रीव से मैत्री हुई मिले हनुमान,
बालि वध कर तोड़ा उसका अभिमान ।

कर राज तिलक दिया सुग्रीव को राज,
युवराज हुए अंगद पूर्ण हुए हर काज ।

चले वानर सीता को खोजने,
प्रभू काज में अपने को साधने ।

गीध सम्पाती की दूर दृष्टि,
देख रही लंका की सृष्टि ।

समुद्र को लांघने चले हनुमान ,
श्रीराम का करते जाते गुणगान ।

पथ की बाधा को कर पार,
पहुँच गए लंका के द्वार ।

सीता सुधि ले जला कर लंका,
प्रभू के नाम का बजाया ढंका ।

प्रभू आशीष से नल नील ने सेतु बाँधा,
पानी पर शिला तेरे राम नाम साधा ।

दूत बन अंगद ने रावण को समझाया,
अपने मद में चूर था कहाँ समझ आया ।

सारे असुर अंगद के पैर को हिला न पाए,
श्री राम की महिमा का बखान करते जाए ।

बड़े बड़े वीर लंका के ढह गए,
वानर भालू श्री राम के गुण गाए ।

मेघनाद अति बलशाली किया शक्ति प्रयोग,
लक्ष्मण के उर में लगी आया दुःखद संयोग ।

सुखेन वैद्य ने संजीवनी का दिया पता बताय,
हनुमत गए रात ही रात में पूरा पर्वत ले आय ।

मूर्छा दूर हुई जागे लखन,
थाम धनुष चले कर वंदन ।

मेघनाद का किया अंत,
हर्षित हुए सारे संत ।

राम रावण युद्ध हुआ बड़ा भारी,
जितने शर काटे होता प्रलयंकारी ।

विभीषण ने दिया बताय नाभि बसे अमृत ,
सोख लिया एक शर से फिर रावण हुआ मृत ।

सुर होकर हर्षित बरसाए सुमन,
पापी का अंत होता यही सत्य वचन ।

नर वानर सङ्ग होकर किया असुरों का संहार,
धरा को पापियों से कर मुक्त किया उद्धार ।

बोलो जय श्री राम जय श्री राम,
पूर्ण होते भजने से हर काम ।

दिखा गए हमको मर्यादा का पथ,
संस्कारो का चला गए प्रवाह रथ ।

।।।जेपी लववंशी, हरदा ।।।

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 1043 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
कवि दीपक बवेजा
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
DrLakshman Jha Parimal
मानवता की बलिवेदी पर सत्य नहीं झुकता है यारों
मानवता की बलिवेदी पर सत्य नहीं झुकता है यारों
प्रेमदास वसु सुरेखा
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
Manisha Manjari
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
निलय निकास का नियम अडिग है
निलय निकास का नियम अडिग है
Atul "Krishn"
वापस
वापस
Harish Srivastava
"ईमानदारी"
Dr. Kishan tandon kranti
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तमन्ना थी मैं कोई कहानी बन जाऊॅ॑
तमन्ना थी मैं कोई कहानी बन जाऊॅ॑
VINOD CHAUHAN
#सन्डे_इज_फण्डे
#सन्डे_इज_फण्डे
*प्रणय प्रभात*
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शारदीय नवरात्र
शारदीय नवरात्र
Neeraj Agarwal
सुविचार
सुविचार
Sunil Maheshwari
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
Suneel Pushkarna
तुम्हारी आँख से जब आँख मिलती है मेरी जाना,
तुम्हारी आँख से जब आँख मिलती है मेरी जाना,
SURYA PRAKASH SHARMA
बिछड़कर मुझे
बिछड़कर मुझे
Dr fauzia Naseem shad
सुर्ख चेहरा हो निगाहें भी शबाब हो जाए ।
सुर्ख चेहरा हो निगाहें भी शबाब हो जाए ।
Phool gufran
*ऊन (बाल कविता)*
*ऊन (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बहुत
बहुत
sushil sarna
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
Shweta Soni
प्यासे को
प्यासे को
Santosh Shrivastava
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
प्रेरणा
प्रेरणा
पूर्वार्थ
3523.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3523.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
रात नहीं आती
रात नहीं आती
Madhuyanka Raj
उस दर पे कदम मत रखना
उस दर पे कदम मत रखना
gurudeenverma198
उसके कहने पे दावा लिया करता था
उसके कहने पे दावा लिया करता था
Keshav kishor Kumar
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...