Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

रात नहीं आती

क्यों न ऐसा होता कि रात नही आती,
शायद फिर आँखों से जज्बात नही आती।
आती तो मगर उसकी याद नही आती
अश्को की फिर बरसात नही आती।।

रुक जाता दिन, रात नही आती,
चाहे ख्वाबों में या यादों में मुलाकात नही आती।
दिन भर हँस के गुजरता दोस्तो के संग
वक्त ठहर जाता पर काश रात नही आती।।

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धधक रही हृदय में ज्वाला --
धधक रही हृदय में ज्वाला --
Seema Garg
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
वृक्ष धरा की धरोहर है
वृक्ष धरा की धरोहर है
Neeraj Agarwal
राम - दीपक नीलपदम्
राम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"चालाक आदमी की दास्तान"
Pushpraj Anant
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
Ravi Prakash
हया
हया
sushil sarna
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
Yogini kajol Pathak
कौन?
कौन?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
"आधी दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
बात जो दिल में है
बात जो दिल में है
Shivkumar Bilagrami
योगा डे सेलिब्रेशन
योगा डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नए दौर का भारत
नए दौर का भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*मौन की चुभन*
*मौन की चुभन*
Krishna Manshi
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
मनोज कर्ण
गंणपति
गंणपति
Anil chobisa
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
अटल सत्य मौत ही है (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
सितम फिरदौस ना जानो
सितम फिरदौस ना जानो
प्रेमदास वसु सुरेखा
बात
बात
Ajay Mishra
सपने हो जाएंगे साकार
सपने हो जाएंगे साकार
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
* वेदना का अभिलेखन : आपदा या अवसर *
* वेदना का अभिलेखन : आपदा या अवसर *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शिक्षा व्यवस्था
शिक्षा व्यवस्था
Anjana banda
किताब कहीं खो गया
किताब कहीं खो गया
Shweta Soni
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
Paras Nath Jha
काल के काल से - रक्षक हों महाकाल
काल के काल से - रक्षक हों महाकाल
Atul "Krishn"
2744. *पूर्णिका*
2744. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संवेदना का सौंदर्य छटा 🙏
संवेदना का सौंदर्य छटा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सहज - असहज
सहज - असहज
Juhi Grover
Loading...