Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2016 · 1 min read

राजयोग महागीता

घनाक्षरी : छंद संख्या १९ ( पृष्ठ २४)
———————————
शांति प्राप्त करने का केवल उपाय यही ,
पावन हरि नाम का संकीर्तन कीजिए| ।
ये सब सब से बड़ा है यग्य, कीर्तन महायग्य,
अत: भक्ति- भाव में भर कीर्तन| कीजिए ।
प्रार्थना करें सभी साधक परमेश्वर से ,
मेरी अग्रगति को त्वरित कर दीजिए।
कृष्ण को पुकार कर कहें बार – बार आप ,
गति- पथ सुगम , प्रशस्त कर दीजिए ।।

Language: Hindi
Tag: कविता
145 Views
You may also like:
■ अन्वेषण_विश्लेषण
*प्रणय प्रभात*
स्पार्टकस का विद्रोह
Shekhar Chandra Mitra
“ जन्माष्टमी की एक झलक आर्मी में ” (संस्मरण)
DrLakshman Jha Parimal
सिस्टर
shabina. Naaz
कृष्ण
Neelam Sharma
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
वीरों को युद्ध आह्वान.....
Aditya Prakash
YOG KIJIYE SWASTHY LIJIYE
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक अगर तुम मुझको
gurudeenverma198
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*धनिक सब ही का भ्राता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
💐💐भौतिक: चिन्तनं व्यर्थ:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" व्यथा पेड़ की"
Dr Meenu Poonia
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
लो अब निषादराज का भी रामलोक गमन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राखी त्यौहार बंधन का - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
ये हमारे कलम की स्याही, बेपरवाहगी से भी चुराती है,...
Manisha Manjari
भारत बनाम (VS) पाकिस्तान
Dr.sima
एहसासे कमतरी का
Dr fauzia Naseem shad
मन की बात
Rashmi Sanjay
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
नवजात बहू (लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
इश्क के आलावा भी।
Taj Mohammad
आत्मविश्वास
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
लिपि सभक उद्भव आओर विकास
श्रीहर्ष आचार्य
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...