Sep 23, 2016 · 1 min read

राजयोग महागीता

घनाक्षरी : छंद संख्या १९ ( पृष्ठ २४)
———————————
शांति प्राप्त करने का केवल उपाय यही ,
पावन हरि नाम का संकीर्तन कीजिए| ।
ये सब सब से बड़ा है यग्य, कीर्तन महायग्य,
अत: भक्ति- भाव में भर कीर्तन| कीजिए ।
प्रार्थना करें सभी साधक परमेश्वर से ,
मेरी अग्रगति को त्वरित कर दीजिए।
कृष्ण को पुकार कर कहें बार – बार आप ,
गति- पथ सुगम , प्रशस्त कर दीजिए ।।

100 Views
You may also like:
* जिंदगी हैं हसीन सौगात *
Dr. Alpa H.
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विश्व विजेता कपिल देव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग३]
Anamika Singh
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वेलेंटाइन स्पेशल (5)
N.ksahu0007@writer
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]
Anamika Singh
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-13💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शब्द बिन, नि:शब्द होते,दिख रहे, संबंध जग में।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Santoshi devi
पिता के जैसा......नहीं देखा मैंने दुजा
Dr. Alpa H.
Loading...