Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2016 · 1 min read

राजयोग महागीता

घनाक्षरी : छंद संख्या १९ ( पृष्ठ २४)
———————————
शांति प्राप्त करने का केवल उपाय यही ,
पावन हरि नाम का संकीर्तन कीजिए| ।
ये सब सब से बड़ा है यग्य, कीर्तन महायग्य,
अत: भक्ति- भाव में भर कीर्तन| कीजिए ।
प्रार्थना करें सभी साधक परमेश्वर से ,
मेरी अग्रगति को त्वरित कर दीजिए।
कृष्ण को पुकार कर कहें बार – बार आप ,
गति- पथ सुगम , प्रशस्त कर दीजिए ।।

Language: Hindi
218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
VINOD CHAUHAN
भक्तिकाल
भक्तिकाल
Sanjay ' शून्य'
कभी मिलो...!!!
कभी मिलो...!!!
Kanchan Khanna
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
नया साल
नया साल
Arvina
2401.पूर्णिका
2401.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कमीना विद्वान।
कमीना विद्वान।
Acharya Rama Nand Mandal
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
विमला महरिया मौज
सबला
सबला
Rajesh
मन खामोश है
मन खामोश है
Surinder blackpen
मन की कसक
मन की कसक
पंछी प्रगति
ऐ ज़ालिम....!
ऐ ज़ालिम....!
Srishty Bansal
नव दीप जला लो
नव दीप जला लो
Mukesh Kumar Sonkar
"साहस"
Dr. Kishan tandon kranti
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
आर.एस. 'प्रीतम'
💐प्रेम कौतुक-514💐
💐प्रेम कौतुक-514💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुवह है राधे शाम है राधे   मध्यम  भी राधे-राधे है
सुवह है राधे शाम है राधे मध्यम भी राधे-राधे है
Anand.sharma
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दोहे- चरित्र
दोहे- चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बाबूजी।
बाबूजी।
Anil Mishra Prahari
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
प्रेमदास वसु सुरेखा
प्रकृति के फितरत के संग चलो
प्रकृति के फितरत के संग चलो
Dr. Kishan Karigar
#आज_की_कविता :-
#आज_की_कविता :-
*Author प्रणय प्रभात*
सपने जब तक पल रहे, उत्साही इंसान【कुंडलिया】
सपने जब तक पल रहे, उत्साही इंसान【कुंडलिया】
Ravi Prakash
आईने में अगर
आईने में अगर
Dr fauzia Naseem shad
मेरी प्यारी कविता
मेरी प्यारी कविता
Ms.Ankit Halke jha
बेटी-पिता का रिश्ता
बेटी-पिता का रिश्ता
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
इश्क का भी आज़ार होता है।
इश्क का भी आज़ार होता है।
सत्य कुमार प्रेमी
जरुरी नहीं खोखले लफ्ज़ो से सच साबित हो
जरुरी नहीं खोखले लफ्ज़ो से सच साबित हो
'अशांत' शेखर
Loading...