Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2023 · 1 min read

रमणीय प्रेयसी

#दिनांक:-25/9/2023
#शीर्षक:-रमणीय प्रेयसी

आज दिल से एक आवाज आयी ,
रूबरू हुईं थी मेरी ही परछाई !
मत कर तुलना अपनी प्रेम का ,
ताकतवरों से ,
आत्मा तक टूटकर बिखर जायेगा ,
सफाई में समय बर्बाद मत कर ,
जिसको जो पसंद, वही सुनना चाहेगा ।
बहुत किया पीछा ,
अब पीछे हट जा ,
सारे गमों को पानी के साथ गटक जा ,
दर-बदर भटकने से अच्छा तू मर जा।
खुद को बेइन्तहा प्यार कर ,
इकरार बार-बार कर ,
संशय नहीं, विश्वास कर ,
सवाल नहीं, आत्मसात् कर ।
हर नजर के गुनाहगार हैं हम,
बस अपनी नजर के बेगुनाहगार हैं हम ,
कदम-दर-कदम मंजिल पाने की जिद थी ,
पर क्या हुआ एक ने दिल तोड़ दिया तो ,
करोड़ों दिलों की ‘रमणीय प्रेयसी’ हैं हम |

रचना मौलिक, अप्रकाशित, स्वरचित और सर्वाधिकार सुरक्षित है।

प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
1 Like · 109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुस्कुरा दो ज़रा
मुस्कुरा दो ज़रा
Dhriti Mishra
*** होली को होली रहने दो ***
*** होली को होली रहने दो ***
Chunnu Lal Gupta
ज़िंदगी के कई मसाइल थे
ज़िंदगी के कई मसाइल थे
Dr fauzia Naseem shad
“गुरुर मत करो”
“गुरुर मत करो”
Virendra kumar
2716.*पूर्णिका*
2716.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"चुलबुला रोमित"
Dr Meenu Poonia
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
विमला महरिया मौज
इंडियन विपक्ष
इंडियन विपक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
जब जब भूलने का दिखावा किया,
जब जब भूलने का दिखावा किया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
माफ़ कर दो दीवाने को
माफ़ कर दो दीवाने को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Ajj bade din bad apse bat hui
Ajj bade din bad apse bat hui
Sakshi Tripathi
💐प्रेम कौतुक-247💐
💐प्रेम कौतुक-247💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी तू  रूह  में  बसती  है
मेरी तू रूह में बसती है
डॉ. दीपक मेवाती
चंद अशआर -ग़ज़ल
चंद अशआर -ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आज की बेटियां
आज की बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
Jitendra kumar
करो सम्मान पत्नी का खफा संसार हो जाए
करो सम्मान पत्नी का खफा संसार हो जाए
VINOD CHAUHAN
*पहले घायल करता तन को, फिर मरघट ले जाता है (हिंदी गजल)*
*पहले घायल करता तन को, फिर मरघट ले जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
DrLakshman Jha Parimal
तू है लबड़ा / MUSAFIR BAITHA
तू है लबड़ा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दुर्भाग्य का सामना
दुर्भाग्य का सामना
Paras Nath Jha
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
कवि दीपक बवेजा
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
Sanjay ' शून्य'
दिल का हाल
दिल का हाल
पूर्वार्थ
"इन्तहा"
Dr. Kishan tandon kranti
नव-निवेदन
नव-निवेदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...