Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2023 · 1 min read

“रफ-कॉपी”

“रफ-कॉपी”
चित्र बना लो, गपशप कर लो
शेरो-शायरी, कविता लिख लो
अपनों के पैगाम, फिल्मों के नाम
जो जी में आए वो कर लो
न तो टीचर कभी रूठती है
ना ही सीस-कलम रुकती है
वाह री मेरी रफ-कॉपी।

10 Likes · 4 Comments · 884 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
The magic of your eyes, the downpour of your laughter,
The magic of your eyes, the downpour of your laughter,
Shweta Chanda
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
manjula chauhan
इंसानो की इस भीड़ में
इंसानो की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
तुम्हें लिखना आसान है
तुम्हें लिखना आसान है
Manoj Mahato
पुरूषो से निवेदन
पुरूषो से निवेदन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
डी. के. निवातिया
*कविताओं से यह मत पूछो*
*कविताओं से यह मत पूछो*
Dr. Priya Gupta
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
नाम सुनाता
नाम सुनाता
Nitu Sah
*आ गई है  खबर  बिछड़े यार की*
*आ गई है खबर बिछड़े यार की*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"आशिकी में"
Dr. Kishan tandon kranti
॥ जीवन यात्रा मे आप किस गति से चल रहे है इसका अपना  महत्व  ह
॥ जीवन यात्रा मे आप किस गति से चल रहे है इसका अपना महत्व ह
Satya Prakash Sharma
सावन का महीना
सावन का महीना
विजय कुमार अग्रवाल
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
पूर्वार्थ
वह व्यवहार किसी के साथ न करें जो
वह व्यवहार किसी के साथ न करें जो
Sonam Puneet Dubey
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तस्वीर!
तस्वीर!
कविता झा ‘गीत’
मेरा सोमवार
मेरा सोमवार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
2680.*पूर्णिका*
2680.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुपुत्र
कुपुत्र
Sanjay ' शून्य'
मिला है जब से साथ तुम्हारा
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"मन मेँ थोड़ा, गाँव लिए चल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दोपहर जल रही है सड़कों पर
दोपहर जल रही है सड़कों पर
Shweta Soni
गरमी का वरदान है ,फल तरबूज महान (कुंडलिया)
गरमी का वरदान है ,फल तरबूज महान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
Indu Singh
Loading...