Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2024 · 1 min read

“रंग और पतंग”

“रंग और पतंग”
पतंग के रूप में
उड़ते हैं कई-कई रंग,
इन्द्रधनुष की क्या औकात
कि कर सके मुकाबला
उन रंगों के संग।

1 Like · 1 Comment · 36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
पते की बात - दीपक नीलपदम्
पते की बात - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
सत्य कुमार प्रेमी
"गुल्लक"
Dr. Kishan tandon kranti
अमीर-गरीब के दरमियाॅ॑ ये खाई क्यों है
अमीर-गरीब के दरमियाॅ॑ ये खाई क्यों है
VINOD CHAUHAN
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
“जो पानी छान कर पीते हैं,
“जो पानी छान कर पीते हैं,
शेखर सिंह
'खामोश बहती धाराएं'
'खामोश बहती धाराएं'
Dr MusafiR BaithA
2456.पूर्णिका
2456.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
गुरु
गुरु
Rashmi Sanjay
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अगर मुझे तड़पाना,
अगर मुझे तड़पाना,
Dr. Man Mohan Krishna
■ चार पंक्तियां अपनी मातृभूनि और उसके अलंकारों के सम्मान में
■ चार पंक्तियां अपनी मातृभूनि और उसके अलंकारों के सम्मान में
*Author प्रणय प्रभात*
*जनहित में विद्यालय जिनकी, रचना उन्हें प्रणाम है (गीत)*
*जनहित में विद्यालय जिनकी, रचना उन्हें प्रणाम है (गीत)*
Ravi Prakash
वीर सुरेन्द्र साय
वीर सुरेन्द्र साय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक्त वक्त की बात है ,
वक्त वक्त की बात है ,
Yogendra Chaturwedi
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
कवि रमेशराज
मां
मां
Sûrëkhâ
"शिलालेख "
Slok maurya "umang"
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
Satish Srijan
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
निर्णय
निर्णय
Dr fauzia Naseem shad
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
Speciality comes from the new arrival .
Speciality comes from the new arrival .
Sakshi Tripathi
*हमारा संविधान*
*हमारा संविधान*
Dushyant Kumar
vah kaun hai?
vah kaun hai?
ASHISH KUMAR SINGH
Loading...