Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

बारिश की बूंदों ने।

बारिश की बूंदों ने फिर उसकी याद दिलाई है।
इश्क के नाम पर जिसने हमसे की बेवफाई है।।1।।

इक पल सनम ना दिखे मन बेचैन हो जाता है।
दिलों को बड़ा ही सताती मुहब्बत में जुदाई है।।2।।

मजदूर है मजदूरो की होती कितनी कमाई है।
देखी ना जाती अब हमसे यूं बढ़ती महगांई है।।3।।

अगर इश्क की अगन लग जाए जो किसी को।
पूरी पूरी रात नज़रों में फिर नींद कहां आती है।।4।।

हर तरफ खूं ही खूँ है कैसा आया ये तूफान है।
कोई ना कहरे खुदा है ये मजहब की लड़ाई है।।5।।

घर की लड़ाई मत सरे राह ला वास्ते खुदा के।
मदद को कोई ना आएगा ये भीड़ तमाशाई है।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हुनर
हुनर
अखिलेश 'अखिल'
जो मेरी जान लेने का इरादा ओढ़ के आएगा
जो मेरी जान लेने का इरादा ओढ़ के आएगा
Harinarayan Tanha
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
मौत के डर से सहमी-सहमी
मौत के डर से सहमी-सहमी
VINOD CHAUHAN
भारत की दुर्दशा
भारत की दुर्दशा
Shekhar Chandra Mitra
घूँघट के पार
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आलेख - प्रेम क्या है?
आलेख - प्रेम क्या है?
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
युवा मन❤️‍🔥🤵
युवा मन❤️‍🔥🤵
डॉ० रोहित कौशिक
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
Dr. Man Mohan Krishna
तेरे प्यार के राहों के पथ में
तेरे प्यार के राहों के पथ में
singh kunwar sarvendra vikram
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
इजाज़त
इजाज़त
डी. के. निवातिया
मेरी तो गलतियां मशहूर है इस जमाने में
मेरी तो गलतियां मशहूर है इस जमाने में
Ranjeet kumar patre
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
#आज_की_कविता :-
#आज_की_कविता :-
*Author प्रणय प्रभात*
विवाद और मतभेद
विवाद और मतभेद
Shyam Sundar Subramanian
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
Paras Nath Jha
कोई रहती है व्यथा, कोई सबको कष्ट(कुंडलिया)
कोई रहती है व्यथा, कोई सबको कष्ट(कुंडलिया)
Ravi Prakash
माँ सच्ची संवेदना....
माँ सच्ची संवेदना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
अपनों की भीड़ में भी
अपनों की भीड़ में भी
Dr fauzia Naseem shad
ईज्जत
ईज्जत
Rituraj shivem verma
है कौन वहां शिखर पर
है कौन वहां शिखर पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
रमेशराज के विरोधरस दोहे
रमेशराज के विरोधरस दोहे
कवि रमेशराज
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
Nishant prakhar
सुहागन का शव
सुहागन का शव
Anil "Aadarsh"
नहीं    माँगूँ  बड़ा   ओहदा,
नहीं माँगूँ बड़ा ओहदा,
Satish Srijan
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कई रात को भोर किया है
कई रात को भोर किया है
कवि दीपक बवेजा
मदमती
मदमती
Pratibha Pandey
Loading...