Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।

#गज़ल

1212/1122/1212/22
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
के ऐसे लोगों का दीनो अमान थोड़ी है।

जो चाहता वही मुॅंह से निकाल देता तू,
वो एक दोस्त है तेरा गुलाम थोड़ी है।

जो चीज चाहेंगे वो आप बेच डालेंगे,
हुजूर आपका अपना मकान थोड़ी है।

लटक रहे हैं जो फल आम के वो कैसे दूं,
हमारे हाथ में तीर ओ कमान थोड़ी है।

न देख घर में तू जन्नत की हूर ऐ प्रेमी,
अरे वो बीबी है जीनत अमान थोड़ी है।

……….✍️ सत्य कुमार प्रेमी

131 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संसार है मतलब का
संसार है मतलब का
अरशद रसूल बदायूंनी
भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच
भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच
Babli Jha
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
मुझे तारे पसंद हैं
मुझे तारे पसंद हैं
ruby kumari
3500.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3500.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
"इस रोड के जैसे ही _
Rajesh vyas
नफ़रत सहना भी आसान हैं.....⁠♡
नफ़रत सहना भी आसान हैं.....⁠♡
ओसमणी साहू 'ओश'
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
Keshav kishor Kumar
जीवन बूटी कौन सी
जीवन बूटी कौन सी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"बैठे हैं महफ़िल में इसी आस में वो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रूबरू मिलने का मौका मिलता नही रोज ,
रूबरू मिलने का मौका मिलता नही रोज ,
Anuj kumar
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
Manisha Manjari
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
अंतिम क्षण में अपना सर्वश्रेष्ठ दें।
अंतिम क्षण में अपना सर्वश्रेष्ठ दें।
Bimal Rajak
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उड़ान ~ एक सरप्राइज
उड़ान ~ एक सरप्राइज
Kanchan Khanna
"सच्चाई की ओर"
Dr. Kishan tandon kranti
🪁पतंग🪁
🪁पतंग🪁
Dr. Vaishali Verma
इन आँखों को हो गई,
इन आँखों को हो गई,
sushil sarna
प्रकृति के स्वरूप
प्रकृति के स्वरूप
डॉ० रोहित कौशिक
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
Dr. Man Mohan Krishna
आज की पंक्तिजन्म जन्म का साथ
आज की पंक्तिजन्म जन्म का साथ
कार्तिक नितिन शर्मा
While proving me wrong, keep one thing in mind.
While proving me wrong, keep one thing in mind.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हिंदी दिवस पर एक आलेख
हिंदी दिवस पर एक आलेख
कवि रमेशराज
मेरा कल! कैसा है रे तू
मेरा कल! कैसा है रे तू
Arun Prasad
मैं मधुर भाषा हिन्दी
मैं मधुर भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...