Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Nov 2022 · 1 min read

ये कलियाँ हसीन,ये चेहरे सुन्दर

ये कलियाँ हसीन,ये चेहरे सुन्दर।
यह इनकी अदाएं, यह इनकी नजर।।
आग लगाकर और प्यास जगाकर।
हो जाती है दूर, ये दीवाना बनाकर।।
ये कलियाँ हसीन———————।।

ये मिलती है पहले, छुपकर सबसे।
करती है वादें , निभाने को दिल से।।
जब बढ़ता है प्यार, हद से ज्यादा।
करती है किनारा, बहाना बनाकर।।
ये कलियाँ हसीन———————।।

बनाने को आशिक, फैलाती है जुल्फें।
फंसाने को दिल, मिलाती है आँखें।।
दौलत की भूखी, महलों की प्यासी।
करती है जुल्म, प्यास अपनी बुझाकर।।
ये कलियाँ हसीन———————-।।

बदलती है पल में, साथी ये अपना।
करती है बर्बाद, बनाकर खिलौना।।
करती है खूं दिल का, धोखा देकर।
लड़ाती है आपस में, झगड़ा कराकर।।
ये कलियाँ हसीन———————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हाथ में खल्ली डस्टर
हाथ में खल्ली डस्टर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
Mahender Singh
शिछा-दोष
शिछा-दोष
Bodhisatva kastooriya
#अमावसी_ग्रहण
#अमावसी_ग्रहण
*प्रणय प्रभात*
बुंदेली हास्य मुकरियां -राना लिधौरी
बुंदेली हास्य मुकरियां -राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कृतज्ञ बनें
कृतज्ञ बनें
Sanjay ' शून्य'
नन्ही भिखारन!
नन्ही भिखारन!
कविता झा ‘गीत’
अफ़सोस
अफ़सोस
Shekhar Chandra Mitra
नया युग
नया युग
Anil chobisa
"सोज़-ए-क़ल्ब"- ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शोख- चंचल-सी हवा
शोख- चंचल-सी हवा
लक्ष्मी सिंह
*अपना अंतस*
*अपना अंतस*
Rambali Mishra
*अभिनंदन हे तर्जनी, तुम पॉंचों में खास (कुंडलिया)*
*अभिनंदन हे तर्जनी, तुम पॉंचों में खास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
लगी राम धुन हिया को
लगी राम धुन हिया को
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
Bhupendra Rawat
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
Harminder Kaur
"याद रखें"
Dr. Kishan tandon kranti
गुस्सा सातवें आसमान पर था
गुस्सा सातवें आसमान पर था
सिद्धार्थ गोरखपुरी
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
Sunil Maheshwari
प्यार की कलियुगी परिभाषा
प्यार की कलियुगी परिभाषा
Mamta Singh Devaa
2671.*पूर्णिका*
2671.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जब कोई शब् मेहरबाँ होती है ।
जब कोई शब् मेहरबाँ होती है ।
sushil sarna
जिसमें हर सांस
जिसमें हर सांस
Dr fauzia Naseem shad
वायु प्रदूषण रहित बनाओ
वायु प्रदूषण रहित बनाओ
Buddha Prakash
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
Shweta Soni
सिंह सोया हो या जागा हो,
सिंह सोया हो या जागा हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* थके नयन हैं *
* थके नयन हैं *
surenderpal vaidya
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
Keshav kishor Kumar
नए वर्ष की इस पावन बेला में
नए वर्ष की इस पावन बेला में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...