Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 1 min read

युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]

नई नवेली दुल्हन जो
साजन के घर आई थी।
अपने आँखो में न जाने
कितने सपने वो लाई थी।

अभी अभी तो वह पिया से,
कहाँ ठीक से मिल पाई थी।
कहाँ अभी जी भरकर,
उसको देख भी पाई थी।

अभी तो उसके हाथों की
मेहंदी भी न उतर पाई थी।
अभी तो वह अपने पिया के
आघोष मे भी ठीक से न आई थी।

अभी तो वह दो बोल पिया से
ठीक से बोल भी न पाई थी ।
कहाँ अभी पिया के बोल को
वह ठीक से सुन भी पाई थी।

अभी तो उसके सपनों का
परवान चढने वाला था।
अभी तो उसके सपनो को
आधार मिलने वाला था।

अभी तो उसने प्रेम का
बीज ही बोया था।
कहाँ अभी अपने प्रेम को
वह खिला पाई थी।

तब तक इस युद्ध ने उससे
उसके पति को छिन लिया था।
उसके माथे की लाली को
खुन से है भर दिया था।

अब वह अपने पिया के
बेजान शरीर को
अपने आघोष में मिच रही थी।
जी भरकर मैं तुम्हे
देख भी न पाई थी।
ऐसा बार -बार वह बोल रही थी।

ऐसा बोल- बोलकर वह
आँसु बहाए जा रही थी।
साथ मै अपने सपनों को
वह दफनाए जा रही थी।

कहा जीवन भर वो बेचारी
फिर सपना देख पाती है।
इस युद्ध से मिले हुए घाव को
जीवन-भर वो कहा भर पाती है।

उसका जीवन तो इस प्रश्न
से ही घिरा रहता है!
ऐसा मेरे साथ ही क्यो हुआ था ?
आखिर यह युद्ध ही क्यों हुआ था ?

~अनामिका

Language: Hindi
2 Likes · 347 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नींद और ख्वाब
नींद और ख्वाब
Surinder blackpen
तन से अपने वसन घटाकर
तन से अपने वसन घटाकर
Suryakant Dwivedi
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
Ram Krishan Rastogi
स्वाभिमानी किसान
स्वाभिमानी किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
के जब तक दिल जवां होता नहीं है।
के जब तक दिल जवां होता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
सूखे पत्तों से भी प्यार लूंगा मैं
सूखे पत्तों से भी प्यार लूंगा मैं
कवि दीपक बवेजा
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
हिमांशु Kulshrestha
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
पूर्वार्थ
***
*** " कभी-कभी...! " ***
VEDANTA PATEL
शून्य
शून्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
फ़साने
फ़साने
अखिलेश 'अखिल'
🍁अंहकार🍁
🍁अंहकार🍁
Dr. Vaishali Verma
जीवन और रंग
जीवन और रंग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मृदा प्रदूषण घातक है जीवन को
मृदा प्रदूषण घातक है जीवन को
Buddha Prakash
नया युग
नया युग
Anil chobisa
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
*प्लीज और सॉरी की महिमा {हास्य-व्यंग्य}*
*प्लीज और सॉरी की महिमा {हास्य-व्यंग्य}*
Ravi Prakash
भारत बनाम इंडिया
भारत बनाम इंडिया
Harminder Kaur
#ekabodhbalak
#ekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3244.*पूर्णिका*
3244.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विश्व कप-2023 का सबसे लंबा छक्का किसने मारा?
विश्व कप-2023 का सबसे लंबा छक्का किसने मारा?
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
धोखा
धोखा
Paras Nath Jha
कहानी घर-घर की
कहानी घर-घर की
Brijpal Singh
आप अपनी DP खाली कर सकते हैं
आप अपनी DP खाली कर सकते हैं
ruby kumari
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
Sanjay ' शून्य'
हमारे दौर में
हमारे दौर में
*Author प्रणय प्रभात*
अपनी सोच
अपनी सोच
Ravi Maurya
ग़ज़ल/नज़्म - दिल में ये हलचलें और है शोर कैसा
ग़ज़ल/नज़्म - दिल में ये हलचलें और है शोर कैसा
अनिल कुमार
Loading...