Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Apr 28, 2022 · 1 min read

युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]

नई नवेली दुल्हन जो
साजन के घर आई थी।
अपने आँखो में न जाने
कितने सपने वो लाई थी।

अभी अभी तो वह पिया से,
कहाँ ठीक से मिल पाई थी।
कहाँ अभी जी भरकर,
उसको देख भी पाई थी।

अभी तो उसके हाथों की
मेहंदी भी न उतर पाई थी।
अभी तो वह अपने पिया के
आघोष मे भी ठीक से न आई थी।

अभी तो वह दो बोल पिया से
ठीक से बोल भी न पाई थी ।
कहाँ अभी पिया के बोल को
वह ठीक से सुन भी पाई थी।

अभी तो उसके सपनों का
परवान चढने वाला था।
अभी तो उसके सपनो को
आधार मिलने वाला था।

अभी तो उसने प्रेम का
बीज ही बोया था।
कहाँ अभी अपने प्रेम को
वह खिला पाई थी।

तब तक इस युद्ध ने उससे
उसके पति को छिन लिया था।
उसके माथे की लाली को
खुन से है भर दिया था।

अब वह अपने पिया के
बेजान शरीर को
अपने आघोष में मिच रही थी।
जी भरकर मैं तुम्हे
देख भी न पाई थी।
ऐसा बार -बार वह बोल रही थी।

ऐसा बोल- बोलकर वह
आँसु बहाए जा रही थी।
साथ मै अपने सपनों को
वह दफनाए जा रही थी।

कहा जीवन भर वो बेचारी
फिर सपना देख पाती है।
इस युद्ध से मिले हुए घाव को
जीवन-भर वो कहा भर पाती है।

उसका जीवन तो इस प्रश्न
से ही घिरा रहता है!
ऐसा मेरे साथ ही क्यो हुआ था ?
आखिर यह युद्ध ही क्यों हुआ था ?

~अनामिका

2 Likes · 81 Views
You may also like:
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
Saraswati Bajpai
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
✍️माटी का है मनुष्य✍️
"अशांत" शेखर
वोट भी तो दिल है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मौसम की पहली बारिश....
Dr. Alpa H. Amin
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
HAPPY BIRTHDAY SHIVANS
KAMAL THAKUR
मिसाइल मैन
Anamika Singh
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
पिता
Surabhi bharati
तेरी हर बात सनद है, हद है
Anis Shah
“ माँ गंगा ”
DESH RAJ
" हैप्पी और पैंथर "
Dr Meenu Poonia
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मन की मुराद
मनोज कर्ण
ज़िन्दगी की धूप...
Dr. Alpa H. Amin
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
【22】 तपती धरती करे पुकार
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुहावना मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...