Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

याद – दीपक नीलपदम्

बहुत दिनन के, बाद आयी हमका,

मोरे पिहरवा की, याद रे ॥1॥

चाँदी जैसे खेतवा में, सोना जैसन गेहूँ बाली,

तपत दुपहरिया में आस रे ॥2॥

अँगना के लीपन में, तुलसी तले दीया,

फुसवा के छत की, बरसात रे ॥3॥

कुइयाँ पे पानी, भरत सहेलियन से,

करते थे खट्टी-मीठी, बात रे ॥4॥

घर के बरौठे में, डेरा डाले बापू की,

हर दिन आवत है, याद रे ॥5॥

माई जब बिदा कीन्ही, फाड़ के करेजवा,

रोये थे बुक्का हम, फाड़ के ॥6॥

छुट गएल नैहर, छुट गएल गाँव मोरा,

अंखियन में धुंधली-बासी, फाँस रे ॥7॥

(c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

1 Like · 107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
Ranjeet kumar patre
माँ का जग उपहार अनोखा
माँ का जग उपहार अनोखा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ दे - दे वरदान ।
माँ दे - दे वरदान ।
Anil Mishra Prahari
■एक टिकट : सौ निकट■
■एक टिकट : सौ निकट■
*प्रणय प्रभात*
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
योग
योग
जगदीश शर्मा सहज
"कर्म का मर्म"
Dr. Kishan tandon kranti
पापा आपकी बहुत याद आती है !
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
"दिमाग"से बनाये हुए "रिश्ते" बाजार तक चलते है!
शेखर सिंह
I lose myself in your love,
I lose myself in your love,
Shweta Chanda
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
कवि रमेशराज
"बेखुदी "
Pushpraj Anant
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
Manisha Manjari
करके घर की फ़िक्र तब, पंछी भरे उड़ान
करके घर की फ़िक्र तब, पंछी भरे उड़ान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
Rohit yadav
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
23/92.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/92.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इस कदर भीगा हुआ हूँ
इस कदर भीगा हुआ हूँ
Dr. Rajeev Jain
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गर्मी आई
गर्मी आई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तड़फ रहा दिल हिज्र में तेरे
तड़फ रहा दिल हिज्र में तेरे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रामायण  के  राम  का , पूर्ण हुआ बनवास ।
रामायण के राम का , पूर्ण हुआ बनवास ।
sushil sarna
भला कैसे सुनाऊं परेशानी मेरी
भला कैसे सुनाऊं परेशानी मेरी
Keshav kishor Kumar
"अलग -थलग"
DrLakshman Jha Parimal
//खलती तेरी जुदाई//
//खलती तेरी जुदाई//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
नज़र में मेरी तुम
नज़र में मेरी तुम
Dr fauzia Naseem shad
*कुछ रखा यद्यपि नहीं संसार में (हिंदी गजल)*
*कुछ रखा यद्यपि नहीं संसार में (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
यह जो आँखों में दिख रहा है
यह जो आँखों में दिख रहा है
कवि दीपक बवेजा
Loading...