Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

“यादों के बस्तर”

“यादों के बस्तर”

बस्तर बहारों की खुशबू से महकता है,
मेरी आँखों में वो हर रोज सँवरता है।

बस्तर की वादियाँ रह-रह के पुकारी है,
पर अब ना कहूँ कि बाकी एक पारी है।

– डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति

8 Likes · 2 Comments · 180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
*यह दौर गजब का है*
*यह दौर गजब का है*
Harminder Kaur
नया सपना
नया सपना
Kanchan Khanna
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
Shivkumar Bilagrami
बसंत आने पर क्या
बसंत आने पर क्या
Surinder blackpen
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Image at Hajipur
Image at Hajipur
Hajipur
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
The_dk_poetry
रावण का परामर्श
रावण का परामर्श
Dr. Harvinder Singh Bakshi
"सत्य"
Dr. Kishan tandon kranti
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
पूर्वार्थ
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
खुदा जाने
खुदा जाने
Dr.Priya Soni Khare
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
ruby kumari
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
चाहते हैं हम यह
चाहते हैं हम यह
gurudeenverma198
गीत शब्द
गीत शब्द
Suryakant Dwivedi
■  आज का लॉजिक
■ आज का लॉजिक
*Author प्रणय प्रभात*
दिल की हक़ीक़त
दिल की हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
प्यारी बहना
प्यारी बहना
Astuti Kumari
2494.पूर्णिका
2494.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
Manju sagar
किया आप Tea लवर हो?
किया आप Tea लवर हो?
Urmil Suman(श्री)
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
अनिल कुमार
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
रिमझिम बरसो
रिमझिम बरसो
surenderpal vaidya
हल्लाबोल
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
वो लोग....
वो लोग....
Sapna K S
बचपन
बचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
खालीपन
खालीपन
करन ''केसरा''
Loading...