Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-425💐

यहीं सबब से मिलते हैं सबक निराले,
बुरे लोगों के दिल तो हैं यूँ काले-काले,
मतलब की आग में सब झुलस रहे हैं,
किसी रोज़ उनके भी निकलेंगे छाले छाले।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*प्रेम का सिखला रहा, मधु पाठ आज वसंत है(गीत)*
*प्रेम का सिखला रहा, मधु पाठ आज वसंत है(गीत)*
Ravi Prakash
17. बेखबर
17. बेखबर
Rajeev Dutta
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हर मंदिर में दीप जलेगा
हर मंदिर में दीप जलेगा
Ansh
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
कोंपलें फिर फूटेंगी
कोंपलें फिर फूटेंगी
Saraswati Bajpai
सब्जियां सर्दियों में
सब्जियां सर्दियों में
Manu Vashistha
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
Dheerja Sharma
प्यार क्या होता, यह हमें भी बहुत अच्छे से पता है..!
प्यार क्या होता, यह हमें भी बहुत अच्छे से पता है..!
SPK Sachin Lodhi
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
sushil sarna
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
तलाश
तलाश
Vandna Thakur
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
Rajesh vyas
3387⚘ *पूर्णिका* ⚘
3387⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मैं लिखता हूँ जो सोचता हूँ !
मैं लिखता हूँ जो सोचता हूँ !
DrLakshman Jha Parimal
धोखा था ये आंख का
धोखा था ये आंख का
RAMESH SHARMA
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
प्रेमदास वसु सुरेखा
कभी खुश भी हो जाते हैं हम
कभी खुश भी हो जाते हैं हम
Shweta Soni
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
मोहब्बत शायरी
मोहब्बत शायरी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
Phool gufran
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
Sarfaraz Ahmed Aasee
प्रिये का जन्म दिन
प्रिये का जन्म दिन
विजय कुमार अग्रवाल
मैने वक्त को कहा
मैने वक्त को कहा
हिमांशु Kulshrestha
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"मन भी तो पंछी ठहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
कवि दीपक बवेजा
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
प्रणय
प्रणय
Neelam Sharma
चल बन्दे.....
चल बन्दे.....
Srishty Bansal
Loading...