Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

मोदी एक महानायक

जो चुनौतियों को स्वीकारे
ऐसा प्रतीक है वो
हिन्दुस्तान को सीने में रखे
हनुमान जैसा सेवक है वो

समाज की सेवा करके वह
अपना ऋण वो चुकाता है
अपने वतन को कभी मिटने न दूँगा
यह सौगंध हर रोज़ उठाता है

महामारी का संकट आया
लोगों का हौसला टूटा, आसरा छूटा
तो पिता की भांति कर्त्तव्य निभाया
संजीवनी बन कर सामने आया

नीले गगन सी ऊंचाई जिसकी
धरा से भी जुड़ा है वो
‘वसुधैव कुटुंबकम’ की माला जपते
विश्व को भी जोड़ता वो

जलता भी है, तपता भी है
सागर – सा सब सहता भी है
जो आए आँच भारत पर
तो वो सुदर्शनचक्र – सा चलता भी है

विश्व को जोड़ने की
विभिन्न विधि अपनाता है
प्रवासियों को मिलाने की
जोत हर दिल में जलाता है

जनता की आवाज बनकर
इतिहास हर दिन लिखता
देश हो या प्रदेश
अतुल्य भारत बनाता ये विशेष

विश्वास बन कर हर सीने में
विकास का ख्वाब सजाता है
जगत गुरु की उम्मीद लेकर
विश्व एकता को जगाता है

तिरंगे को सीने में समाए
वह महानायक, योद्धा डटा है आज
घने अंधेरों से टकराते – टकराते
मशाल लेकर चलता है आज

प्रभु के दरबार में
हाथ जोड़े खड़े हैं सब
उगता रहे हर रोज यह सूरज
आशिर्वाद लिये सजदे में पड़े हैं सब.

🇫🇯सुएता दत्त चौधरी फीजी

40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यह तो होता है दौर जिंदगी का
यह तो होता है दौर जिंदगी का
gurudeenverma198
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का दूसरा वर्ष (1960 - 61)*
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का दूसरा वर्ष (1960 - 61)*
Ravi Prakash
"जाति"
Dr. Kishan tandon kranti
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
Manisha Manjari
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
Ashwini sharma
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जुगनू
जुगनू
Gurdeep Saggu
देखना हमको फिर नहीं भाता
देखना हमको फिर नहीं भाता
Dr fauzia Naseem shad
मोबाइल के भक्त
मोबाइल के भक्त
Satish Srijan
Stop cheating on your future with your past.
Stop cheating on your future with your past.
पूर्वार्थ
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
डी. के. निवातिया
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
कृष्ण कुमार अनंत
कृष्ण कुमार अनंत
Krishna Kumar ANANT
सिया राम विरह वेदना
सिया राम विरह वेदना
Er.Navaneet R Shandily
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ये तो मुहब्बत में
ये तो मुहब्बत में
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
आशा शैली
■ चुनावी साल...
■ चुनावी साल...
*Author प्रणय प्रभात*
पल परिवर्तन
पल परिवर्तन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
Shweta Soni
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Dr अरुण कुमार शास्त्री
Dr अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
Swara Kumari arya
बिछोह
बिछोह
Shaily
इक अजीब सी उलझन है सीने में
इक अजीब सी उलझन है सीने में
करन ''केसरा''
मुझे  बखूबी याद है,
मुझे बखूबी याद है,
Sandeep Mishra
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*तुम न आये*
*तुम न आये*
Kavita Chouhan
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
Loading...