Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

मोक्ष पाने के लिए नौकरी जरुरी

शरीर साँसों के बिना नहीं चलता,
और जीवन पैसों के बिना नहीं चलता,
लोग कहते हैं पैसा हाथ का मेल है,
मगर यह मैल साफ हाथों से नहीं निकलता…

इसके लिए हाथ गंदे करने ही पड़ते हैं,
कई तरह के धंधे करने ही पड़ते हैं,
इन्हीं धंधो का नाम है नौकरी,
मिल जाए जीवन की गाड़ी चलने लगती है,
ना मिले तो चलती हुई गाड़ी पंचर होने लगती है…

भले ही साँसे मुफ्त में दी हों भगवान ने,
मगर खाली पेट भरने के लिए तो नौकरी करनी ही पड़ती है,
नौकरी के लिए दिन-रात तपना पड़ता है,
गलाकाट प्रतियोगिता में हुनरबाजों से लड़ना पड़ता है…

जनसंख्या बहुत है मेरे भाई,
नौकरी के लिए भाई के सिर पर पैर रखकर ऊपर चढ़ना पड़ता है…

क्योंकि अगर नौकरी नहीं तो शरीर चलता नहीं,
समाज में सम्मान मिलता नहीं,
खाली बटुआ पेंट में जचता नहीं,
और खाली बटुए पर घर बसाने छोकरी मिलता नहीं..

बिना छोकरी के मर्द बाप बनता नहीं,
और बगैर बाप बने पिंडदान होता नहीं,
और पिंडदान के बिना मोक्ष मिलता नहीं,
इसलिए प्यारे मंदिर मस्जिद का चक्कर छोड़ो,
और नौकरी पाने के लिए सरकार पर हल्ला बोलो…

बरना घूमते रहोगे जीवन मृत्यु के संसार में,
क्योंकि अब बुद्ध का जमाना नहीं और सिकंदर बनना आसान नहीं,
सूर, कबीर, तुलसी के भगवान और थे,
अब के भगवान बगैर सोना-चाँदी चढ़ाए आते नहीं..!!

prAstya…….(प्रशांत सोलंकी)

Language: Hindi
1 Like · 69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
किसने यहाँ
किसने यहाँ
Dr fauzia Naseem shad
वस्तु वस्तु का  विनिमय  होता  बातें उसी जमाने की।
वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
पर्यावरण
पर्यावरण
Manu Vashistha
आँख मिचौली जिंदगी,
आँख मिचौली जिंदगी,
sushil sarna
अर्ज है पत्नियों से एक निवेदन करूंगा
अर्ज है पत्नियों से एक निवेदन करूंगा
शेखर सिंह
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
सूर्योदय
सूर्योदय
Madhu Shah
*क्या बात है आपकी मेरे दोस्तों*
*क्या बात है आपकी मेरे दोस्तों*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी घरवाली
मेरी घरवाली
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
Saraswati Bajpai
ग़ज़ल-दर्द पुराने निकले
ग़ज़ल-दर्द पुराने निकले
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
अनिल कुमार
उड़ान
उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
Neelam Sharma
When you think it's worst
When you think it's worst
Ankita Patel
आसमाँ  इतना भी दूर नहीं -
आसमाँ इतना भी दूर नहीं -
Atul "Krishn"
मौत ने पूछा जिंदगी से,
मौत ने पूछा जिंदगी से,
Umender kumar
मैं लिखूं अपनी विरह वेदना।
मैं लिखूं अपनी विरह वेदना।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
* सड़ जी नेता हुए *
* सड़ जी नेता हुए *
Mukta Rashmi
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
Sukoon
दोनो कुनबे भानुमती के
दोनो कुनबे भानुमती के
*प्रणय प्रभात*
*जीवित हैं तो लाभ यही है, प्रभु के गुण हम गाऍंगे (हिंदी गजल)
*जीवित हैं तो लाभ यही है, प्रभु के गुण हम गाऍंगे (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
जात आदमी के
जात आदमी के
AJAY AMITABH SUMAN
Yuhi kisi ko bhul jana aasan nhi hota,
Yuhi kisi ko bhul jana aasan nhi hota,
Sakshi Tripathi
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
प्रेमदास वसु सुरेखा
नन्हीं परी आई है
नन्हीं परी आई है
Mukesh Kumar Sonkar
छात्रों का विरोध स्वर
छात्रों का विरोध स्वर
Rj Anand Prajapati
Loading...