Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2020 · 1 min read

मैं ही मैं

कोरोना ने
‘मैं’ को
नए सिरे से परिभाषित कर दिया है.
‘मैं’ ही कारक
‘मैं’ ही हन्ता
और ‘मैं’ ही नियंता को
स्थापित कर दिया है
नेपथ्य में बैठा
कोरोना परिवार का यह नया सदस्य.
‘मैं’, ‘मैं’ और केवल ‘मैं’
एकान्त के सन्नाटे को
महसूस करेगा.
और ‘मैं’ बनने की दौड़ के लिए
दण्डित भी
यही,
‘मैं’ ही होगा.
और अंततः
भय के पसरे साम्राज्य को,
‘मैं’ ही तोड़ेगा,
अस्तु,
उठो ‘मैं’
सजग हो,
तोड़ो इस ‘मैं’
के कारा को.
( 24.03.2020 )

Language: Hindi
1 Like · 378 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
View all
You may also like:
इश्क़ का दामन थामे
इश्क़ का दामन थामे
Surinder blackpen
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
surenderpal vaidya
ये दुनिया है
ये दुनिया है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
चलती है जिंदगी
चलती है जिंदगी
डॉ. शिव लहरी
2953.*पूर्णिका*
2953.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ढोंगी बाबा
ढोंगी बाबा
Kanchan Khanna
💐अज्ञात के प्रति-109💐
💐अज्ञात के प्रति-109💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
कवि रमेशराज
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
पंकज कुमार कर्ण
* जिंदगी में कब मिला,चाहा हुआ हर बार है【मुक्तक】*
* जिंदगी में कब मिला,चाहा हुआ हर बार है【मुक्तक】*
Ravi Prakash
व्यथित ह्रदय
व्यथित ह्रदय
कवि अनिल कुमार पँचोली
शब्द वाणी
शब्द वाणी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
कवि दीपक बवेजा
घर की चाहत ने, मुझको बेघर यूँ किया, की अब आवारगी से नाता मेरा कुछ ख़ास है।
घर की चाहत ने, मुझको बेघर यूँ किया, की अब आवारगी से नाता मेरा कुछ ख़ास है।
Manisha Manjari
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
तुम जहा भी हो,तुरंत चले आओ
तुम जहा भी हो,तुरंत चले आओ
Ram Krishan Rastogi
24, *ईक्सवी- सदी*
24, *ईक्सवी- सदी*
Dr Shweta sood
गुमनाम शायरी
गुमनाम शायरी
Shekhar Chandra Mitra
बुरा वक्त
बुरा वक्त
लक्ष्मी सिंह
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
मेरा प्रेम के प्रति सम्मान
मेरा प्रेम के प्रति सम्मान
Ms.Ankit Halke jha
मैं जवान हो गई
मैं जवान हो गई
Basant Bhagawan Roy
मीठा गान
मीठा गान
rekha mohan
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
अंतिम साँझ .....
अंतिम साँझ .....
sushil sarna
हमारी आंखों में
हमारी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
Loading...