Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

मैं तो महज संसार हूँ

मैं तो महज संसार हूँ
मैं तो महज संसार हूँ
जीव-जंतु हैं जो आए
सारे मुझमे हैं समाए
मैं तो महज संसार हूँ
आते हैं सब जाते हैं
मुझे यही सब पाते हैं
मैं तो महज संसार हूँ
सच्चाई भूले हैं सब
दौलत में फूले हैं सब
मैं तो महज संसार हूँ
सांस निकल जानी है
दौलत रह जानी है
मैं तो महज संसार हूँ
किसको रहना है यहाँ
V9द होना है फनाह
मैं तो महज संसार हूँ

2 Likes · 200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
बरसात की झड़ी ।
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
तेरी सख़्तियों के पीछे
तेरी सख़्तियों के पीछे
ruby kumari
* ऋतुराज *
* ऋतुराज *
surenderpal vaidya
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
#सामयिक ग़ज़ल
#सामयिक ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
पूर्वार्थ
*सरिता निकलती है 【मुक्तक】*
*सरिता निकलती है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
Phool gufran
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
सुन्दर सलोनी
सुन्दर सलोनी
जय लगन कुमार हैप्पी
आज़ाद
आज़ाद
Satish Srijan
खूबसूरत, वो अहसास है,
खूबसूरत, वो अहसास है,
Dhriti Mishra
*तुम  हुए ना हमारे*
*तुम हुए ना हमारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
'अशांत' शेखर
रही सोच जिसकी
रही सोच जिसकी
Dr fauzia Naseem shad
تہذیب بھلا بیٹھے
تہذیب بھلا بیٹھے
Ahtesham Ahmad
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2986.*पूर्णिका*
2986.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
Manisha Manjari
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
शेखर सिंह
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा  तेईस
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा तेईस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दायरों में बँधा जीवन शायद खुल कर साँस भी नहीं ले पाता
दायरों में बँधा जीवन शायद खुल कर साँस भी नहीं ले पाता
Seema Verma
तुम्हारे लिए
तुम्हारे लिए
हिमांशु Kulshrestha
भोर
भोर
Omee Bhargava
💐अज्ञात के प्रति-115💐
💐अज्ञात के प्रति-115💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
त्यौहार
त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
"व्यर्थ है धारणा"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
Neelam Sharma
वो पास आने लगी थी
वो पास आने लगी थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...