Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

मैं तो महज वक्त हूँ

मैं तो महज एक वक्त हूँ
कहीं समय का फेर हूँ
कहीं घड़ी भर देर हूँ
मैं तो महज एक वक्त हूँ
न कोई सीमा मेरी
न कोई गरीमा मेरी
मैं तो महज एक वक्त हूँ
सारे युगों का सार मैं
जीत मैं और हार मैं
मैं तो महज एक वक्त हूँ
ये सांस मेरी हद में है
ये जान मेरी जद में है
मैं तो महज एक वक्त हूँ
कृष्ण की गीता में मैं
V9द की कविता में मैं
मैं तो महज एक वक्त हूँ

3 Likes · 249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
लक्ष्मी सिंह
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
धर्म अर्थ कम मोक्ष
धर्म अर्थ कम मोक्ष
Dr.Pratibha Prakash
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक अर्सा हुआ है
एक अर्सा हुआ है
हिमांशु Kulshrestha
बेनाम रिश्ते .....
बेनाम रिश्ते .....
sushil sarna
पागल बना दिया
पागल बना दिया
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
"शिष्ट लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
संघर्ष
संघर्ष
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पानीपुरी (व्यंग्य)
पानीपुरी (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
International Day Against Drug Abuse
International Day Against Drug Abuse
Tushar Jagawat
कभी न दिखावे का तुम दान करना
कभी न दिखावे का तुम दान करना
Dr fauzia Naseem shad
तुम याद आए
तुम याद आए
Rashmi Sanjay
आवो पधारो घर मेरे गणपति
आवो पधारो घर मेरे गणपति
gurudeenverma198
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
शोभा कुमारी
"ज्ञान-दीप"
Dr. Kishan tandon kranti
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
The_dk_poetry
गाली भरी जिंदगी
गाली भरी जिंदगी
Dr MusafiR BaithA
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
*दशरथ के ऑंगन में देखो, नाम गूॅंजता राम है (गीत)*
*दशरथ के ऑंगन में देखो, नाम गूॅंजता राम है (गीत)*
Ravi Prakash
23/142.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/142.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
फूल खिले हैं डाली-डाली,
फूल खिले हैं डाली-डाली,
Vedha Singh
" वाई फाई में बसी सबकी जान "
Dr Meenu Poonia
💐 Prodigi Love-47💐
💐 Prodigi Love-47💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
"गेंम-वर्ल्ड"
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...