Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2017 · 1 min read

शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का

तिरंगा बन गया लेकिन लट्ठ गह सद्ज्ञान का।
इसी से ही उच्चता औ विवेकी धन ध्यान का
मिला,फहराया अमन बन,विश्व के कल्याणहित।
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का।
……………………………………………….
✓मेरी कृति/काव्य संग्रह “पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं” का मुक्तक।
✓”पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं” कृति का द्वितीय संस्करण अमेज़न और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

बृजेश कुमार नायक

1021 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
A Donkey and A Lady
A Donkey and A Lady
AJAY AMITABH SUMAN
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दगा और बफा़
दगा और बफा़
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
दर्द
दर्द
Shyam Sundar Subramanian
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
"बकरी"
Dr. Kishan tandon kranti
*जय सियाराम राम राम राम...*
*जय सियाराम राम राम राम...*
Harminder Kaur
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
मां का दर रहे सब चूम
मां का दर रहे सब चूम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*जिसका सुंदर स्वास्थ्य जगत में, केवल वह धनवान है (हिंदी गजल)
*जिसका सुंदर स्वास्थ्य जगत में, केवल वह धनवान है (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
होली आई रे
होली आई रे
Mukesh Kumar Sonkar
India is my national
India is my national
Rajan Sharma
आदमियों की जीवन कहानी
आदमियों की जीवन कहानी
Rituraj shivem verma
* सुन्दर फूल *
* सुन्दर फूल *
surenderpal vaidya
पड़ोसन के वास्ते
पड़ोसन के वास्ते
VINOD CHAUHAN
वो सब खुश नसीब है
वो सब खुश नसीब है
शिव प्रताप लोधी
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
Tushar Jagawat
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
आदर्श
आदर्श
Bodhisatva kastooriya
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
Shweta Soni
*सत्य की खोज*
*सत्य की खोज*
Dr Shweta sood
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
Shutisha Rajput
23/109.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/109.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपनों का दीद है।
अपनों का दीद है।
Satish Srijan
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
ज़िंदगी को इस तरह
ज़िंदगी को इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
👍👍
👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
Er. Sanjay Shrivastava
Loading...