Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2024 · 1 min read

मेरे सब्र की इंतहां न ले !

मेरे सब्र की इंतहां न ले !
सब्र टूट गया तो लिहाज़ छूट जाएगा….

2 Likes · 93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी शायरी
मेरी शायरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
एक दिन का बचपन
एक दिन का बचपन
Kanchan Khanna
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
Shweta Soni
गजब हुआ जो बाम पर,
गजब हुआ जो बाम पर,
sushil sarna
है कहीं धूप तो  फिर  कही  छांव  है
है कहीं धूप तो फिर कही छांव है
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
सच और झूँठ
सच और झूँठ
विजय कुमार अग्रवाल
वाल्मिकी का अन्याय
वाल्मिकी का अन्याय
Manju Singh
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
Keshav kishor Kumar
खाते मोबाइल रहे, हम या हमको दुष्ट (कुंडलिया)
खाते मोबाइल रहे, हम या हमको दुष्ट (कुंडलिया)
Ravi Prakash
//सुविचार//
//सुविचार//
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
$úDhÁ MãÚ₹Yá
लाचार जन की हाय
लाचार जन की हाय
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आशा की किरण
आशा की किरण
Neeraj Agarwal
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"ऐसा क्यों होता है?"
Dr. Kishan tandon kranti
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
Kumar lalit
सरकारी जमाई -व्यंग कविता
सरकारी जमाई -व्यंग कविता
Dr Mukesh 'Aseemit'
नव दीप जला लो
नव दीप जला लो
Mukesh Kumar Sonkar
"दस ढीठों ने ताक़त दे दी,
*प्रणय प्रभात*
चम-चम चमके चाँदनी
चम-चम चमके चाँदनी
Vedha Singh
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
ruby kumari
సంస్థ అంటే సేవ
సంస్థ అంటే సేవ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मेहनत करने की क्षमता के साथ आदमी में अगर धैर्य और विवेक भी ह
मेहनत करने की क्षमता के साथ आदमी में अगर धैर्य और विवेक भी ह
Paras Nath Jha
ले आओ बरसात
ले आओ बरसात
संतोष बरमैया जय
इबादत के लिए
इबादत के लिए
Dr fauzia Naseem shad
ज़िन्दगी में
ज़िन्दगी में
Santosh Shrivastava
जो कहना है खुल के कह दे....
जो कहना है खुल के कह दे....
Shubham Pandey (S P)
शादी के बाद भी अगर एक इंसान का अपने परिवार के प्रति अतिरेक ज
शादी के बाद भी अगर एक इंसान का अपने परिवार के प्रति अतिरेक ज
पूर्वार्थ
Loading...