Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 2 min read

मेरे मरने के बाद

तुमको सन्मार्ग की
राह पर प्रेरित
करते हुए जीवन के
तीसरे पायदान पर
आ गया
अब तो जीवन का
कुछ वर्ष ही बचा है
पर आज भी अपने
आपको खाली
हाथ पाया।

सुधरना तो दूर
सुधरने की राह पर
भी चलते हुए
नही पाया
मन आत्मग्लानि से
भर आया
सबके लिए सुभाषितानि
की व्याख्या आजीवन
करता रहा
पर आज अपनो के
परवरिश में स्वयं
को खाली हाथ पाया।

आज अनायास ही
शून्य में निहारते
स्वयं से संवाद करते
जीव के जीवन की
इस विविधता पर
मैं सोच रहा था
अतीत के कई पृष्ठों
को पढ़ रहा था।

मैंने हर वह प्रयास किया
बेहतर से बेहतर
परवरिश दिया
जिन चीजों के लिए
खूब था तरसा
उसे तुम्हे भरपूर दिया
ग्रैजुएशन तक मैं
पैदल सफर करता रहा
पांचवी में ही रेंजर
साइकिल दसवी में
स्कूटर दिया
बेहतर से बेहतर कोचिंग
का इंतजाम किया
जबकि मैंने कभी कोई
ट्यूशन भी नही लिया।

सोचा कि
शायद मेरी इन
बेहतर सुविधाओं से
तुम मुझसे बेहतर करोगे
मेरे हर अरमानों
को तुम पंख दोगे
पर हुआ
ठीक इसके उल्टा
हर कदम पर दिया
तुमने मुझे एक झटका।

अपनी हर नाकामियों
को एक बहाना
ढूंढ लिया
मुझे ही उसका
जिम्मेदार बना दिया।

मरता क्या न करता
कोई अपनो से
कब तलक लड़ा है
भाग्य को भी न जाने
क्या और क्यों पड़ा है?

पर अभी भी
मन मेरा निराश नही
आशावादी हूँ न
मुझे अपने निज
कर्मों पर विश्वास है
तुमको सुधरने का
बस यही आस है।

शायद, निर्मेष
मेरे मरने के बाद ही
तुम्हे सुधारना है
है ईश्वर मेरे भाग्य में
ये तूने क्या लिखा है
यह कैसा दंश है
शायद मेरे ही कीन्ही
जन्मों के कर्म
का शायद यह फल है।

निर्मेष

1 Like · 63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
View all
You may also like:
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुसलसल ईमान रख
मुसलसल ईमान रख
Bodhisatva kastooriya
कोरोना महामारी
कोरोना महामारी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
... सच्चे मीत
... सच्चे मीत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
Ravi Betulwala
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
छोटी कहानी -
छोटी कहानी - "पानी और आसमान"
Dr Tabassum Jahan
*मंत्री जी भी कभी किसी दिन, ई-रिक्शा पर बैठें तो (हिंदी गजल-
*मंत्री जी भी कभी किसी दिन, ई-रिक्शा पर बैठें तो (हिंदी गजल-
Ravi Prakash
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
अनजान बनकर मिले थे,
अनजान बनकर मिले थे,
Jay Dewangan
If you want to be in my life, I have to give you two news...
If you want to be in my life, I have to give you two news...
पूर्वार्थ
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Sakshi Tripathi
निर्मल निर्मला
निर्मल निर्मला
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जरूरत पड़ने पर बहाना और बुरे वक्त में ताना,
जरूरत पड़ने पर बहाना और बुरे वक्त में ताना,
Ranjeet kumar patre
परी
परी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
Rituraj shivem verma
■ एक मिसाल...
■ एक मिसाल...
*प्रणय प्रभात*
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
प्रेम में कुछ भी असम्भव नहीं। बल्कि सबसे असम्भव तरीक़े से जि
प्रेम में कुछ भी असम्भव नहीं। बल्कि सबसे असम्भव तरीक़े से जि
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सज जाऊं तेरे लबों पर
सज जाऊं तेरे लबों पर
Surinder blackpen
युवा
युवा
Akshay patel
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां  पर आपको उपस्थित ह
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां पर आपको उपस्थित ह
Rj Anand Prajapati
तुंग द्रुम एक चारु 🌿☘️🍁☘️
तुंग द्रुम एक चारु 🌿☘️🍁☘️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ना मुमकिन
ना मुमकिन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
Vishal babu (vishu)
Loading...