Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

मेरी फितरत ही बुरी है

न नियत ही बुरी है मेरी न हसरत ही बुरी है
पर लोग समझते हैं मेरी फितरत ही बुरी है
पर लोग समझते हैं……….

मैं बोलता हूँ सच जो होता है थोड़ा कड़वा
पर लोग समझते हैं मेरी फितरत ही बुरी है
पर लोग समझते हैं………..

मैं ही अलग नहीं यहाँ हर आदमी अलग है
पर लोग समझते हैं मेरी फितरत ही बुरी है
पर लोग समझते हैं………..

मैं पत्थरों के बदले इंसानियत को पूजता हूँ
पर लोग समझते हैं मेरी फितरत ही बुरी है
पर लोग समझते हैं…………

मैं सुनता हूँ सभी की करता ‘V9द’ मन की
पर लोग समझते हैं मेरी फितरत ही बुरी है
पर लोग समझते हैं…………..

स्वरचित
विनोद चौहान

1 Like · 37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
करन ''केसरा''
चंद दोहा
चंद दोहा
सतीश तिवारी 'सरस'
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
প্রশ্ন - অর্ঘ্যদীপ চক্রবর্তী
Arghyadeep Chakraborty
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अगर, आप सही है
अगर, आप सही है
Bhupendra Rawat
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
भोर
भोर
Omee Bhargava
"कुण्डलिया"
surenderpal vaidya
*आर्य समाज और थियोसॉफिकल सोसायटी की सहयात्रा*
*आर्य समाज और थियोसॉफिकल सोसायटी की सहयात्रा*
Ravi Prakash
तरक्की से तकलीफ
तरक्की से तकलीफ
शेखर सिंह
"लहर"
Dr. Kishan tandon kranti
भले दिनों की बात
भले दिनों की बात
Sahil Ahmad
When winter hugs
When winter hugs
Bidyadhar Mantry
काव्य का आस्वादन
काव्य का आस्वादन
कवि रमेशराज
खानदानी चाहत में राहत🌷
खानदानी चाहत में राहत🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फसल
फसल
Bodhisatva kastooriya
3227.*पूर्णिका*
3227.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
#दो_टूक
#दो_टूक
*प्रणय प्रभात*
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
Pushpraj Anant
कोई मिले जो  गले लगा ले
कोई मिले जो गले लगा ले
गुमनाम 'बाबा'
*नववर्ष*
*नववर्ष*
Dr. Priya Gupta
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
मार्तंड वर्मा का इतिहास
मार्तंड वर्मा का इतिहास
Ajay Shekhavat
चाहता हूं
चाहता हूं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
*कमाल की बातें*
*कमाल की बातें*
आकांक्षा राय
ग़ज़ल/नज़्म : पूरा नहीं लिख रहा कुछ कसर छोड़ रहा हूँ
ग़ज़ल/नज़्म : पूरा नहीं लिख रहा कुछ कसर छोड़ रहा हूँ
अनिल कुमार
प्रेम के मायने
प्रेम के मायने
Awadhesh Singh
खोट
खोट
GOVIND UIKEY
Loading...