Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2022 · 3 min read

मेरी गुड़िया (संस्मरण)

बचपन की अपनी एक दुनिया होती है। इस दुनिया में मित्रों से अधिक प्रिय खिलौने और उनसे जुड़े खेल होते हैं। कोई व्यक्ति जब बच्चा होता है तो उसे कोई न कोई खिलौना विशेष रूप से प्रिय होता है। यह खिलौना उसके लिए मात्र खिलौना न होकर उस दौर में उसकी निजी पूँजी सा महत्वपूर्ण होता है, जिसका खो जाना उसके लिए इस कदर असहनीय होता है कि उसके बालमन पर ऐसी अमिट छाप छोड़ जाता है, जिसे अपनी स्मृति से मिटा पाना उसके सम्पूर्ण जीवन में
असम्भव सा होता है।

बचपन में मेरा प्रिय खिलौना मेरी गुड़िया थी। यह गुड़िया कब, कहाँ और कैसे मेरी जिंदगी का हिस्सा बनी, कुछ याद नहीं। याद है तो बस इतना कि बचपन के कुछ महत्वपूर्ण वर्ष हमने साथ गुजारे। मेरी यह गुड़िया मध्यम कद की, गोल चेहरे व गोल-गोल आँखों, गौर वर्ण व सुनहरे बालों वाली खूबसूरत साथी थी।
बचपन के कितने वर्ष मैंने इसके साथ खेल कर बिताये, पता नहीं। किन्तु इसके बिना उन दिनों मेरा हर दिन, हर खेल अधूरा सा रहता था। उठते-बैठते, सोते-जागते जहाँ तक सम्भव हो, गुड़िया मेरे साथ ही होती और मेरे लगभग प्रत्येक खेल का केन्द्रबिन्दु होती। मुझे इससे इतना लगाव था कि अपने छोटे-छोटे हाथों से मैं अपनी बुद्धि व योग्यतानुसार इसके वस्त्र बनाती और उन वस्त्रों को पहनाकर अनेक प्रकार से इसे सजाती-सँवारती। ऊन सलाई लेकर इसके लिए गर्म कपड़े भी मैंने अपनी बुद्धि अनुसार बुने और पहनाये।
आज के दौर में तो हर वस्तु बाजार से तैयार खरीद सकते हैं। किन्तु हम जब बच्चे थे तब खेल भी खेलने हेतु अपनी पूर्ण कुशलता एवं कल्पनाशीलता का प्रयोग करना पड़ता था। खेलने के लिये साथी व साधन दोनों जुटाने होते थे।

गुड़िया से वैसे तो हम किसी भी प्रकार खेल लेते थे। किन्तु हमारा सर्वाधिक प्रिय खेल गुड़िया की शादी होता था, जिसके लिए वह सम्पूर्ण व्यवस्था बनाने का हमारा प्रयास रहता जोकि वास्तव में शादी हेतु आवश्यक होती है। अतः सर्वप्रथम हम बच्चे जोकि मेरी बहनें एवं सहेलियाँ होती थीं, सब दो टोलियों वर एवं वधू पक्ष में बँट जाते। फिर बुद्धि अनुसार वे समस्त प्रक्रियाएँ पूर्ण करने का हमारा प्रयास रहता जो हम अक्सर विवाह में होते देखते थे।

फिर एक दिन ऐसा हुआ कि मेरी प्रिय गुड़िया मुझसे सदा के लिये दूर कर दी गयी। दरअसल व्यक्तिगत संकीर्ण विचारधारा के कारण मेरे छोटे चाचाजी का दृष्टिकोण था कि गाड़ियों से खेलने के कारण परिवार में बेटियों की संख्या बढ़ती है। यही कारण था कि जब कभी हम गुड़िया से खेलते तो उन्हें बहुत बुरा लगता था। अतः एक दिन ऐसे ही खेल खेलते समय उन्होंने मेरी गुड़िया बीच खेल में उठा ली और उसके सभी अंग अलग-अलग कर घर के बाहर नाले में फेंक दिये। इसके बाद मैं उस गुड़िया से कभी खेल नहीं पायी। परन्तु आज भी वह गुड़िया और उससे जुड़ी यह घटना कहीं भीतर तक मेरी स्मृतियों में बसी है।

अक्सर जब कभी समाज में किसी बेटी से दुर्व्यवहार होते देखती या सुनती हूँ, मन बेहद आहत व अपमानित महसूस करता है कि हम ऐसे समाज का हिस्सा हैं, जहाँ न केवल बेटी अपितु उसके खिलौनों से भी भेदभावपूर्ण व्यवहार करने वाले लोग मौजूद हैं। कहीं न कहीं इस घटना ने मुझे प्रेरित किया कि बेटी को स्वयं में इतना सक्षम होना चाहिए कि अपने अस्तित्व एवं स्वाभिमान को सुरक्षित रख सके।

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक :- ०४/०८/२०२१.

Language: Hindi
3 Likes · 4 Comments · 1361 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
बेरोजगार लड़के
बेरोजगार लड़के
पूर्वार्थ
I am a little boy
I am a little boy
Rajan Sharma
कविताएँ
कविताएँ
Shyam Pandey
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हुआ है अच्छा ही, उनके लिए तो
हुआ है अच्छा ही, उनके लिए तो
gurudeenverma198
प्रेम की बंसी बजे
प्रेम की बंसी बजे
DrLakshman Jha Parimal
सूर्ययान आदित्य एल 1
सूर्ययान आदित्य एल 1
Mukesh Kumar Sonkar
!! मन रखिये !!
!! मन रखिये !!
Chunnu Lal Gupta
पग मेरे नित चलते जाते।
पग मेरे नित चलते जाते।
Anil Mishra Prahari
न मौत आती है ,न घुटता है दम
न मौत आती है ,न घुटता है दम
Shweta Soni
अपने आँसू
अपने आँसू
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
Rituraj shivem verma
अब हक़ीक़त
अब हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
वो
वो
Ajay Mishra
आग और धुआं
आग और धुआं
Ritu Asooja
आशार
आशार
Bodhisatva kastooriya
3033.*पूर्णिका*
3033.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
कवि रमेशराज
"सोचता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
कर्णधार
कर्णधार
Shyam Sundar Subramanian
*हिंदी*
*हिंदी*
Dr. Priya Gupta
* खूबसूरत इस धरा को *
* खूबसूरत इस धरा को *
surenderpal vaidya
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
.......अधूरी........
.......अधूरी........
Naushaba Suriya
नारदीं भी हैं
नारदीं भी हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शारदीय नवरात्र
शारदीय नवरात्र
Neeraj Agarwal
आपात स्थिति में रक्तदान के लिए आमंत्रण देने हेतु सोशल मीडिया
आपात स्थिति में रक्तदान के लिए आमंत्रण देने हेतु सोशल मीडिया
*Author प्रणय प्रभात*
छुट्टी का इतवार नहीं है (गीत)
छुट्टी का इतवार नहीं है (गीत)
Ravi Prakash
रिश्तें मे मानव जीवन
रिश्तें मे मानव जीवन
Anil chobisa
Loading...