Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 3, 2022 · 3 min read

मेरी गुड़िया (संस्मरण)

बचपन की अपनी एक दुनिया होती है। इस दुनिया में मित्रों से अधिक प्रिय खिलौने और उनसे जुड़े खेल होते हैं। कोई व्यक्ति जब बच्चा होता है तो उसे कोई न कोई खिलौना विशेष रूप से प्रिय होता है। यह खिलौना उसके लिए मात्र खिलौना न होकर उस दौर में उसकी निजी पूँजी सा महत्वपूर्ण होता है, जिसका खो जाना उसके लिए इस कदर असहनीय होता है कि उसके बालमन पर ऐसी अमिट छाप छोड़ जाता है, जिसे अपनी स्मृति से मिटा पाना उसके सम्पूर्ण जीवन में
असम्भव सा होता है।

बचपन में मेरा प्रिय खिलौना मेरी गुड़िया थी। यह गुड़िया कब, कहाँ और कैसे मेरी जिंदगी का हिस्सा बनी, कुछ याद नहीं। याद है तो बस इतना कि बचपन के कुछ महत्वपूर्ण वर्ष हमने साथ गुजारे। मेरी यह गुड़िया मध्यम कद की, गोल चेहरे व गोल-गोल आँखों, गौर वर्ण व सुनहरे बालों वाली खूबसूरत साथी थी।
बचपन के कितने वर्ष मैंने इसके साथ खेल कर बिताये, पता नहीं। किन्तु इसके बिना उन दिनों मेरा हर दिन, हर खेल अधूरा सा रहता था। उठते-बैठते, सोते-जागते जहाँ तक सम्भव हो, गुड़िया मेरे साथ ही होती और मेरे लगभग प्रत्येक खेल का केन्द्रबिन्दु होती। मुझे इससे इतना लगाव था कि अपने छोटे-छोटे हाथों से मैं अपनी बुद्धि व योग्यतानुसार इसके वस्त्र बनाती और उन वस्त्रों को पहनाकर अनेक प्रकार से इसे सजाती-सँवारती। ऊन सलाई लेकर इसके लिए गर्म कपड़े भी मैंने अपनी बुद्धि अनुसार बुने और पहनाये।
आज के दौर में तो हर वस्तु बाजार से तैयार खरीद सकते हैं। किन्तु हम जब बच्चे थे तब खेल भी खेलने हेतु अपनी पूर्ण कुशलता एवं कल्पनाशीलता का प्रयोग करना पड़ता था। खेलने के लिये साथी व साधन दोनों जुटाने होते थे।

गुड़िया से वैसे तो हम किसी भी प्रकार खेल लेते थे। किन्तु हमारा सर्वाधिक प्रिय खेल गुड़िया की शादी होता था, जिसके लिए वह सम्पूर्ण व्यवस्था बनाने का हमारा प्रयास रहता जोकि वास्तव में शादी हेतु आवश्यक होती है। अतः सर्वप्रथम हम बच्चे जोकि मेरी बहनें एवं सहेलियाँ होती थीं, सब दो टोलियों वर एवं वधू पक्ष में बँट जाते। फिर बुद्धि अनुसार वे समस्त प्रक्रियाएँ पूर्ण करने का हमारा प्रयास रहता जो हम अक्सर विवाह में होते देखते थे।

फिर एक दिन ऐसा हुआ कि मेरी प्रिय गुड़िया मुझसे सदा के लिये दूर कर दी गयी। दरअसल व्यक्तिगत संकीर्ण विचारधारा के कारण मेरे छोटे चाचाजी का दृष्टिकोण था कि गाड़ियों से खेलने के कारण परिवार में बेटियों की संख्या बढ़ती है। यही कारण था कि जब कभी हम गुड़िया से खेलते तो उन्हें बहुत बुरा लगता था। अतः एक दिन ऐसे ही खेल खेलते समय उन्होंने मेरी गुड़िया बीच खेल में उठा ली और उसके सभी अंग अलग-अलग कर घर के बाहर नाले में फेंक दिये। इसके बाद मैं उस गुड़िया से कभी खेल नहीं पायी। परन्तु आज भी वह गुड़िया और उससे जुड़ी यह घटना कहीं भीतर तक मेरी स्मृतियों में बसी है।

अक्सर जब कभी समाज में किसी बेटी से दुर्व्यवहार होते देखती या सुनती हूँ, मन बेहद आहत व अपमानित महसूस करता है कि हम ऐसे समाज का हिस्सा हैं, जहाँ न केवल बेटी अपितु उसके खिलौनों से भी भेदभावपूर्ण व्यवहार करने वाले लोग मौजूद हैं। कहीं न कहीं इस घटना ने मुझे प्रेरित किया कि बेटी को स्वयं में इतना सक्षम होना चाहिए कि अपने अस्तित्व एवं स्वाभिमान को सुरक्षित रख सके।

रचनाकार :- कंचन खन्ना, कोठीवाल नगर,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक :- ०४/०८/२०२१.

2 Likes · 2 Comments · 158 Views
You may also like:
आप कौन है
Sandeep Albela
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
“ सभक शुभकामना बारी -बारी सँ लिय ,आभार व्यक्त करबा...
DrLakshman Jha Parimal
अपना राह तुम खुद बनाओ
Anamika Singh
कविगोष्ठी समाचार
Awadhesh Saxena
बिख़रे वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी और चाहत
Anamika Singh
'विजय दिवस'
Godambari Negi
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
जिसे पाया नहीं मैंने
Dr fauzia Naseem shad
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
अजब-गज़ब शौक होते है।
Taj Mohammad
बेबस पिता
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
मूकदर्शक
Shyam Sundar Subramanian
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
दीप तुम प्रज्वलित करते रहो।
Taj Mohammad
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
खुदा के आलावा।
Taj Mohammad
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
तेरा नसीब बना हूं।
Taj Mohammad
✍️आस्तीन में सांप✍️
'अशांत' शेखर
महेंद्र जी (संस्मरण / पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
Loading...