Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

मेरी एक सहेली है

मेरी एक सहेली है, अदभुत और अलवेली है
जीवन की एक पहेली है, हरदम नई नवेली है
बहुत प्यार करती है मुझको, बचपन से साथ में खेली है
मुझको भी प्यारी लगती है, मानों गुड़ की भेली है
अपूर्व रूप गुणवान, लाखों में एक अकेली है
मेरी एक सहेली है, अदभुत और अलवेली है
जीवन की एक पहेली है, हरदम नई नवेली है
गीत प्रेम के गाती है, सोलह श्रृंगार सजाती है
खिल जाते हैं सुमन धरा पर,जब सज धज कर आती है
गीत प्रेम के गाती, मेरी कविता सखी सहेली है

Language: Hindi
72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
गीत - जीवन मेरा भार लगे - मात्रा भार -16x14
गीत - जीवन मेरा भार लगे - मात्रा भार -16x14
Mahendra Narayan
"खिलाफत"
Dr. Kishan tandon kranti
I want to hug you
I want to hug you
VINOD CHAUHAN
विश्वास🙏
विश्वास🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
gurudeenverma198
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
Manoj Mahato
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
जिस दिन
जिस दिन
Santosh Shrivastava
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
Gouri tiwari
ख़त्म होने जैसा
ख़त्म होने जैसा
Sangeeta Beniwal
हिन्दी पर नाज है !
हिन्दी पर नाज है !
Om Prakash Nautiyal
2456.पूर्णिका
2456.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जीवन संगिनी
जीवन संगिनी
जगदीश लववंशी
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
ज़ैद बलियावी
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
ओसमणी साहू 'ओश'
हमने क्या खोया
हमने क्या खोया
Dr fauzia Naseem shad
"किसान का दर्द"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मंज़िल मिली उसी को इसी इक लगन के साथ
मंज़िल मिली उसी को इसी इक लगन के साथ
अंसार एटवी
हमेशा..!!
हमेशा..!!
'अशांत' शेखर
लिखना
लिखना
Shweta Soni
जनहित (लघुकथा)
जनहित (लघुकथा)
Ravi Prakash
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दिलों के खेल
दिलों के खेल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अहसान का दे रहा हूं सिला
अहसान का दे रहा हूं सिला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वर्ण पिरामिड
वर्ण पिरामिड
Neelam Sharma
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
कीमतें भी चुकाकर देख ली मैंने इज़हार-ए-इश्क़ में
कीमतें भी चुकाकर देख ली मैंने इज़हार-ए-इश्क़ में
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...