Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2024 · 1 min read

Fantasies are common in this mystical world,

Fantasies are common in this mystical world,
And that’s how the stars and floor of heaven cuddled.
In this dazzling and enchanting flow of life a girl’s destiny was destined .
She’s blooming like a bud,
Slowly slowly she’ll get a shape for now she’s just the scattered mud.
She’ll someday become the most beautiful flower,
As pretty as a crystal shower,
Kissed by nature every second.
Cuz the phenomenon of her becoming a lady has hastened.

1 Like · 46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निकलो…
निकलो…
Rekha Drolia
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
विचार और भाव-2
विचार और भाव-2
कवि रमेशराज
नेता अफ़सर बाबुओं,
नेता अफ़सर बाबुओं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वापस
वापस
Harish Srivastava
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
Sanjay ' शून्य'
दिनाक़ 03/05/2024
दिनाक़ 03/05/2024
Satyaveer vaishnav
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वक्त के इस भवंडर में
वक्त के इस भवंडर में
Harminder Kaur
रिश्ता
रिश्ता
अखिलेश 'अखिल'
*शाकाहारी भोज, रोज सब सज्जन खाओ (कुंडलिया)*
*शाकाहारी भोज, रोज सब सज्जन खाओ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ऐ सूरज तू अपनी ताप को अब कम कर दे
ऐ सूरज तू अपनी ताप को अब कम कर दे
Keshav kishor Kumar
पुष्पों का पाषाण पर,
पुष्पों का पाषाण पर,
sushil sarna
मुक्तक7
मुक्तक7
Dr Archana Gupta
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
Sahil Ahmad
सावन
सावन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
shabina. Naaz
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
Soniya Goswami
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"रुख़सत"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
टूटेगा एतबार
टूटेगा एतबार
Dr fauzia Naseem shad
कविता : याद
कविता : याद
Rajesh Kumar Arjun
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2638.पूर्णिका
2638.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वो नाकामी के हजार बहाने गिनाते रहे
वो नाकामी के हजार बहाने गिनाते रहे
नूरफातिमा खातून नूरी
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
बीतते साल
बीतते साल
Lovi Mishra
Loading...