Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

मेरा शहर

शहर शहर और देश विदेश भी घूम लिया मैं इतने साल।
वापस आकर कुछ दिन रुक कर देखा जो अपने शहर का हाल।।
कुछ तो बदल गया है शहर भी, कुछ बदली हर व्यक्ति की चाल।
कुछ भी अपना सा नहीं लगता क्या हो गया मेरे शहर का हाल।।
क्या बचपन था क्या साथी थे हर चेहरा था जाना पहचाना।
किसी भी घर में घुस जाते थे हर घर में थी अपनी खास पहचान।।
आज पूछने पर भी बता नहीं सकता कोई अपने पड़ोसी का नाम।
पहले पड़ोस की आंटी आकर बता देती थी हमको अपने भी काम।।
मिलने जुलने का वक्त नहीं किसी को खत्म हो गई जान पहचान।
सब अपनी अपनी ही धुन में मगन और ठलुए भी कर रहे सत्तर काम।।
मोबाइल में सिमट गया हर रिश्ता दोस्त पड़ोसी और शायद खानदान।
शहर में मोहल्ले गली कूंचे नहीं दिखते बस दिखते हैं छोटे बड़े मकान।।
कहे विजय बिजनौरी देखकर अपने शहर का बिगड़ता ये हाल।
आओ मिलकर अलख जगाएं और बदले अपने इस शहर का हाल।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

Language: Hindi
80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
#चप्पलचोर_जूताखोर
#चप्पलचोर_जूताखोर
*Author प्रणय प्रभात*
देते ऑक्सीजन हमें, बरगद पीपल नीम (कुंडलिया)
देते ऑक्सीजन हमें, बरगद पीपल नीम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
Anand Kumar
आप या तुम
आप या तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
पीड़ादायक होता है
पीड़ादायक होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
पिछले पन्ने 6
पिछले पन्ने 6
Paras Nath Jha
"कोयल"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रीतम के दोहे
प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
किए जा सितमगर सितम मगर....
किए जा सितमगर सितम मगर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"वट वृक्ष है पिता"
Ekta chitrangini
,,,,,,
,,,,,,
शेखर सिंह
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
पुण्य धरा भारत माता
पुण्य धरा भारत माता
surenderpal vaidya
तुम हो तो मैं हूँ,
तुम हो तो मैं हूँ,
लक्ष्मी सिंह
विश्वास🙏
विश्वास🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अर्ज है
अर्ज है
Basant Bhagawan Roy
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
हर हर महादेव की गूंज है।
हर हर महादेव की गूंज है।
Neeraj Agarwal
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
संस्कारी लड़की
संस्कारी लड़की
Dr.Priya Soni Khare
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
Dr MusafiR BaithA
ज्ञानमय
ज्ञानमय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Wakt ke pahredar
Wakt ke pahredar
Sakshi Tripathi
ओ! चॅंद्रयान
ओ! चॅंद्रयान
kavita verma
अधबीच
अधबीच
Dr. Mahesh Kumawat
3170.*पूर्णिका*
3170.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
Seema Garg
लोग जाम पीना सीखते हैं
लोग जाम पीना सीखते हैं
Satish Srijan
Loading...