Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

मेरा दिन भी आएगा !

गाँव का एक भतीजा,
अठारह वर्ष का वह,
कह रहा था-
अंकल, मेरा दिन भी आएगा ।

जब पहुँचा वह,
तीस,
तब भी कह रहा था–
अंकल, मेरा दिन भी आएगा ।

जब हो गया,
चालीस का,
तब भी वह आशावादी था–
अंकल, मेरा दिन भी आएगा ।

जब हो गया पचास का,
सन्तान भी उसके वयस्क ,
तब भी वही दोहरा रहा था–
अंकल, मेरा दिन भी आएगा।

एक दिन अचानक
उसे सिने मे दर्द हुआ
डॉक्टर ने कहा-
अब इसका दिन आ गया ।

यह सुनते ही चारों तरफ,
अफरा-तफरी मचा,
शुभचिन्तकों का इकट्ठा होते देख कहा–
अब सचमुच मेरा दिन आ गया ।

घर की छत की ओर देखते हुए,
गांव का वह बूढ़ा भतिजा,
अपने दिन का इंतजार न करने को बता रहा था–
धन्य है, वह जो आज खुलकर हंसता, बात करता ।

#दिनेश_यादव
काठमाण्डू (नेपाल)

Language: Hindi
1 Like · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#तेवरी / #त्यौहार_गए
#तेवरी / #त्यौहार_गए
*Author प्रणय प्रभात*
छल
छल
Aman Kumar Holy
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
Naushaba Suriya
लाखों ख्याल आये
लाखों ख्याल आये
Surinder blackpen
मैंने जिसे लिखा था बड़ा देखभाल के
मैंने जिसे लिखा था बड़ा देखभाल के
Shweta Soni
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Bodhisatva kastooriya
जी लगाकर ही सदा
जी लगाकर ही सदा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मरासिम
मरासिम
Shyam Sundar Subramanian
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्रणय-निवेदन
प्रणय-निवेदन
Shekhar Chandra Mitra
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
Anand Kumar
* कुछ लोग *
* कुछ लोग *
surenderpal vaidya
फितरत
फितरत
Dr.Khedu Bharti
खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,
खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,
कवि दीपक बवेजा
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*मिट्टी की वेदना*
*मिट्टी की वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
Akash Yadav
बड़ी सी इस दुनिया में
बड़ी सी इस दुनिया में
पूर्वार्थ
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
विमला महरिया मौज
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
कार्तिक नितिन शर्मा
अपना...❤❤❤
अपना...❤❤❤
Vishal babu (vishu)
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
Radhakishan R. Mundhra
चलो मौसम की बात करते हैं।
चलो मौसम की बात करते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
पास नहीं
पास नहीं
Pratibha Pandey
कहे महावर हाथ की,
कहे महावर हाथ की,
sushil sarna
डरने लगता हूँ...
डरने लगता हूँ...
Aadarsh Dubey
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
Arti Bhadauria
Loading...