Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2023 · 1 min read

मेरा कल! कैसा है रे तू

मेरा कल! कैसा है रे तू?
तेरे ललाट पर श्वेद की गर्म बूंदें होंगी?
तू खिलखिलाता प्रसन्न-वदन मिलेगा?
तुम्हारे ओंठ कहने को तत्पर,मन कह नहीं सकेंगे.
लो मैं ही देता हूँ कह.
आखिर मैं ही बाँचता रहा हूँ तेरा भाग्य.
मेरा कल! कैसा है रे तू!

तू सूनेगा, युद्ध की खबरें, संभावित विश्व‌युद्ध की.
तू गुनेगा अपनी स्थिति इस दरम्यान
तू चुनेगा आलोचना का पथ
तू धुनेगा युद्ध के ‘थीम’(कारण) पर अपना सिर
तू भूनेगा युद्ध की पृष्ठभूमि के अवसरों को
अपनी कढ़ाही में और
तू बुनेगा अपने राजमहल का सपना.

किसी अपने द्वारा ठगा जायगा
तेरे विश्वास को वर्णनातीत चोट होगा प्राप्त.
तेरा आत्मविश्वास हिलेगा
तू अंदर से जायेगा टूट स्यात्.
किसी के स्वार्थ की बलि चढ़ेगा तू
होगा तुझ पर अप्रत्याशित आघात.

सहन करेगा तू.
वहन करेगा तू.
कुछ परन(प्रण) करेगा तू.
अपनी मान्यताओं से दूर गमन करेगा तू.
अपनी खीझ और क्रोध दमन करेगा तू.
अपनी इंसानियत दफन करेगा तू.
अपने शब्दों में, जमा सारा विष वमन करेगा तू.

मेरा कल! कैसा है रे तू!
कोई कथा या कविता लिखेगा तू
बाहर नहीं तो अंदर?
दु:ख,दर्द,पीड़ा से ग्रसितों को देख
स्वार्थ परे धकेलेगा तू?
शायद नहीं,शायद हाँ.

तू मेरी तकदीर जियेगा.
तू मेरे तदबीर की तकदीर जियेगा.
पर,तू मुझे कभी नहीं जियेगा.
मेरा कल! कैसा है रे तू!
—————————————————-

Language: Hindi
124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
The enchanting whistle of the train.
The enchanting whistle of the train.
Manisha Manjari
दंगे-फसाद
दंगे-फसाद
Shekhar Chandra Mitra
रूकतापुर...
रूकतापुर...
Shashi Dhar Kumar
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
Anil chobisa
ग़ज़ल - राना लिधौरी
ग़ज़ल - राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
Suryakant Dwivedi
चल सतगुर के द्वार
चल सतगुर के द्वार
Satish Srijan
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
डर के आगे जीत।
डर के आगे जीत।
Anil Mishra Prahari
समझे वही हक़ीक़त
समझे वही हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
Radiance
Radiance
Dhriti Mishra
मेरी औकात
मेरी औकात
साहित्य गौरव
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अभी मेरी बरबादियों का दौर है
अभी मेरी बरबादियों का दौर है
पूर्वार्थ
झूम मस्ती में झूम
झूम मस्ती में झूम
gurudeenverma198
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रिंसिपल सर
प्रिंसिपल सर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐प्रेम कौतुक-384💐
💐प्रेम कौतुक-384💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
AJAY AMITABH SUMAN
धन ..... एक जरूरत
धन ..... एक जरूरत
Neeraj Agarwal
पानी
पानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शिकारी संस्कृति के
शिकारी संस्कृति के
Sanjay ' शून्य'
2475.पूर्णिका
2475.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मां का आंचल(Happy mothers day)👨‍👩‍👧‍👧
मां का आंचल(Happy mothers day)👨‍👩‍👧‍👧
Ms.Ankit Halke jha
नियम, मर्यादा
नियम, मर्यादा
DrLakshman Jha Parimal
*खिले जब फूल दो भू पर, मधुर यह प्यार रचते हैं (मुक्तक)*
*खिले जब फूल दो भू पर, मधुर यह प्यार रचते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Loading...