Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

*मूॅंगफली स्वादिष्ट (कुंडलिया)*

मूॅंगफली स्वादिष्ट (कुंडलिया)
_______________________________
मेवा लो-जी चल पड़ी, जाड़ों की शुरुआत
बादामों के संग में, पिश्तों की सौगात
पिश्तों की सौगात, सजा चिलगोजा प्यारा
काजू है टिपटॉप, रूप किशमिश का न्यारा
कहते रवि कविराय, मिली ठेले पर सेवा
मूॅंगफली स्वादिष्ट, सर्वजन की यह मेवा
———————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
* पावन धरा *
* पावन धरा *
surenderpal vaidya
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
Suryakant Dwivedi
शीर्षक - सोच और उम्र
शीर्षक - सोच और उम्र
Neeraj Agarwal
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
नूरफातिमा खातून नूरी
स्थायित्व कविता
स्थायित्व कविता
Shyam Pandey
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
पूर्वार्थ
राम काव्य मन्दिर बना,
राम काव्य मन्दिर बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" लो आ गया फिर से बसंत "
Chunnu Lal Gupta
भले वो चाँद के जैसा नही है।
भले वो चाँद के जैसा नही है।
Shah Alam Hindustani
******** रुख्सार से यूँ न खेला करे ***********
******** रुख्सार से यूँ न खेला करे ***********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुविचार
सुविचार
Sarika Dhupar
"मीरा के प्रेम में विरह वेदना ऐसी थी"
Ekta chitrangini
चुनाव 2024
चुनाव 2024
Bodhisatva kastooriya
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सच कहूं तो
सच कहूं तो
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मंद मंद बहती हवा
मंद मंद बहती हवा
Soni Gupta
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
Rajesh Kumar Arjun
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
मां का हृदय
मां का हृदय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2402.पूर्णिका
2402.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आंखों की नदी
आंखों की नदी
Madhu Shah
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
'हाँ
'हाँ" मैं श्रमिक हूँ..!
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ
"तन्हाई"
Dr. Kishan tandon kranti
*छलने को तैयार है, छलिया यह संसार (कुंडलिया)*
*छलने को तैयार है, छलिया यह संसार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ये पल आएंगे
ये पल आएंगे
Srishty Bansal
बेटीयां
बेटीयां
Aman Kumar Holy
Loading...