Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

मुरझाए चेहरे फिर खिलेंगे, तू वक्त तो दे उसे

मुरझाए चेहरे फिर खिलेंगे, तू वक्त तो दे उसे
अपनी सफलता की कहानियां अपने हाथों वो लिखेंगे।
चंद्रकांता साव ।

1 Like · 122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
राज वीर शर्मा
हार से डरता क्यों हैं।
हार से डरता क्यों हैं।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
हरकत में आयी धरा...
हरकत में आयी धरा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
संवेदना(कलम की दुनिया)
संवेदना(कलम की दुनिया)
Dr. Vaishali Verma
एक अधूरे सफ़र के
एक अधूरे सफ़र के
हिमांशु Kulshrestha
*आई वर्षा देखिए, कैसी है सुर-ताल* (कुंडलिया)
*आई वर्षा देखिए, कैसी है सुर-ताल* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
कवि दीपक बवेजा
खूबसूरती
खूबसूरती
Ritu Asooja
सौभाग्य मिले
सौभाग्य मिले
Pratibha Pandey
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
SATPAL CHAUHAN
नादानी
नादानी
Shaily
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
Abhijeet
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
ruby kumari
कुछ नमी अपने
कुछ नमी अपने
Dr fauzia Naseem shad
आहाँ अपन किछु कहैत रहू ,आहाँ अपन किछु लिखइत रहू !
आहाँ अपन किछु कहैत रहू ,आहाँ अपन किछु लिखइत रहू !
DrLakshman Jha Parimal
"सदा से"
Dr. Kishan tandon kranti
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" - "श्मशान वैराग्य"
Atul "Krishn"
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आपाधापी व्यस्त बहुत हैं दफ़्तर  में  व्यापार में ।
आपाधापी व्यस्त बहुत हैं दफ़्तर में व्यापार में ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*सुविचरण*
*सुविचरण*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हाथ कंगन को आरसी क्या
हाथ कंगन को आरसी क्या
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुख दुःख
सुख दुःख
विजय कुमार अग्रवाल
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
कवि रमेशराज
यूँ तो समन्दर में कभी गोते लगाया करते थे हम
यूँ तो समन्दर में कभी गोते लगाया करते थे हम
The_dk_poetry
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
VINOD CHAUHAN
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*An Awakening*
*An Awakening*
Poonam Matia
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
6) “जय श्री राम”
6) “जय श्री राम”
Sapna Arora
Loading...