Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2024 · 1 min read

मुझे दर्द सहने की आदत हुई है।

मुझे दर्द सहने की आदत हुई है।
उसे इस कदर चाहने जो लगा हूं।।

समझना नहीं मुझे अब किसीको।
उसे इस कदर सोचने जो लगा हूं।।

मांगता हूं माफी खुदा से हमेशा।
उसे इस कदर पूजने जो लगा हूं।।

तन्हा नहीं है जिंदगी अब मेरी भी।
उसमें इस कदर रहने जो लगा हूं।।

आने पर उनके गम तो जाने लगे।
ख्वाहिशों को जबसे जीने लगा हूं।।

लगने लगा है वह खुदा सा मुझें।
उसे इस कदर मानने जो लगा हूं।।

अपनो से दूरियां कर ली है बहुत।
संग में उसके जबसे रहने लगा हूँ।।

दिल आशना हो गया है मेरा भी।
उसमें खुद को देखने जो लगा हूं।।

करने लगा अबतो शायरी मैं भी।
उसे इस कदर जानने जो लगा हूं।।

मोहब्बत खुदा से यूँ होने लगी है।
उसको रब सा देखने जो लगा हूं।।

कहने लगे आशिकी चिश्ती मुझे।
सूफियों सा मैं नाचने जो लगा हूं।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
कबूतर इस जमाने में कहां अब पाले जाते हैं
कबूतर इस जमाने में कहां अब पाले जाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
मेरे पास नींद का फूल🌺,
मेरे पास नींद का फूल🌺,
Jitendra kumar
दर्द के ऐसे सिलसिले निकले
दर्द के ऐसे सिलसिले निकले
Dr fauzia Naseem shad
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
gurudeenverma198
2874.*पूर्णिका*
2874.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उसे भुलाने के सभी,
उसे भुलाने के सभी,
sushil sarna
प्यारा भारत देश है
प्यारा भारत देश है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सपने
सपने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चाँद को चोर देखता है
चाँद को चोर देखता है
Rituraj shivem verma
समय
समय
Neeraj Agarwal
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
Anand Kumar
रम्भा की ‘मी टू’
रम्भा की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"" *माँ के चरणों में स्वर्ग* ""
सुनीलानंद महंत
माँ का आशीर्वाद पकयें
माँ का आशीर्वाद पकयें
Pratibha Pandey
“सत्य वचन”
“सत्य वचन”
Sandeep Kumar
*वोटर की लाटरी (हास्य कुंडलिया)*
*वोटर की लाटरी (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी पेड़ जैसी है
जिंदगी पेड़ जैसी है
Surinder blackpen
"आज की रात "
Pushpraj Anant
"ओ मेरे मांझी"
Dr. Kishan tandon kranti
हौसला
हौसला
Sanjay ' शून्य'
सत्य प्रेम से पाएंगे
सत्य प्रेम से पाएंगे
महेश चन्द्र त्रिपाठी
''आशा' के मुक्तक
''आशा' के मुक्तक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
📚पुस्तक📚
📚पुस्तक📚
Dr. Vaishali Verma
प्रभु हैं खेवैया
प्रभु हैं खेवैया
Dr. Upasana Pandey
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Mahmood Alam
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
Ram Krishan Rastogi
गुलाब
गुलाब
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
Dushyant Kumar
कीमत
कीमत
Paras Nath Jha
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
Loading...