Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2016 · 1 min read

मुझे चलना है बस चलने दो

मै राह चला हूँ प्रीत मिलन की
मुझे चलना है बस चलने दो ||

प्रीत लगी जब दिव्य ओज से
उस ओज मे जाकर मिलना है
मोह पतंगे को ज्वाला का
ज्योति मे जाकर जलना है
मन को निर्मल करने मे
तन जलता है तो जलने दो |
मै राह चला हूँ प्रीत मिलन की
मुझे चलना है बस चलने दो ||

हर एक बूँद का लक्ष्य नही
सागर मे विलीन हो जाना
जीवन दायिनि बनने के लिए
कुछ का घरा मे खो जाना
जीवन देने की चाहत मे
अस्तित्व खोता है तो खोने दो |
मै राह चला हूँ प्रीत मिलन की
मुझे चलना है बस चलने दो ||

शून्य से द्विगुणित होकर
हर अंक शून्य बन जाता है
श्याम विविर मे मिल करके
हर रंग श्याम बन जाता है
श्याम मिलन की चाहत मे
रंग ढलता है तो ढलने दो |
मै राह चला हूँ प्रीत मिलन की
मुझे चलना है बस चलने दो ||

दरिया को पार करने मे
पैरो पर कीचड़ लगता है
लेकिन पथिक कब राहो की
कठिनाइयो से डरता है
मिट्टी की इस काया पर
कीचड़ लगता है तो लगने दो |
मै राह चला हूँ प्रीत मिलन की
मुझे चलना है बस चलने दो||

Language: Hindi
359 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from शिवदत्त श्रोत्रिय
View all
You may also like:
We can not judge in our life ,
We can not judge in our life ,
Sakshi Tripathi
तुम्हारी छवि...
तुम्हारी छवि...
उमर त्रिपाठी
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
तुम मन मंदिर में आ जाना
तुम मन मंदिर में आ जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ Rãthí
जब-जब मेरी क़लम चलती है
जब-जब मेरी क़लम चलती है
Shekhar Chandra Mitra
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
Writing Challenge- कृतज्ञता (Gratitude)
Writing Challenge- कृतज्ञता (Gratitude)
Sahityapedia
23/189.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/189.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
shabina. Naaz
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-150 से चुने हुए श्रेष्ठ 11 दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-150 से चुने हुए श्रेष्ठ 11 दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खेल खिलाड़ी
खेल खिलाड़ी
Mahender Singh Manu
धर्म, ईश्वर और पैगम्बर
धर्म, ईश्वर और पैगम्बर
Dr MusafiR BaithA
कौन सी खूबसूरती
कौन सी खूबसूरती
जय लगन कुमार हैप्पी
अंतरंग प्रेम
अंतरंग प्रेम
Paras Nath Jha
लौटना मुश्किल होता है
लौटना मुश्किल होता है
Saraswati Bajpai
■ निष्कर्ष.....
■ निष्कर्ष.....
*Author प्रणय प्रभात*
एक शे'र
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कितने फ़र्ज़?
कितने फ़र्ज़?
Shaily
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
Kumar lalit
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
श्रृंगारिक दोहे
श्रृंगारिक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"जेब्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
कारगिल दिवस पर
कारगिल दिवस पर
Harminder Kaur
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
💐प्रेम कौतुक-504💐
💐प्रेम कौतुक-504💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तन्हाई
तन्हाई
Surinder blackpen
पर्यावरण
पर्यावरण
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"Don't be fooled by fancy appearances, for true substance li
Manisha Manjari
Loading...