Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

खुदा का नूर

मुकद्दर से पराजित हो बहुत मजबूर होते है
तड़पते आह भरते प्यार में मशहूर होतें है
पिटे जब कैस जख्मी,दर्द में लैला,सुना होगा
कहो दिल से, असल में वे खुदा का नूर होते हैं।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Comment · 396 Views
You may also like:
“ हृदयक गप्प ”
DrLakshman Jha Parimal
ज़िंदगी का हीरो
AMRESH KUMAR VERMA
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
ढूंढते हैं मगर न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
'हे सबले!'
Godambari Negi
सुकून :-
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"मेरा मन"
Dr Meenu Poonia
तुझसे रूठ कर
Sadanand Kumar
साथ तुम्हारा
मोहन
हम भी क्या दीवाने हुआ करते थे
shabina. Naaz
प्राणदायी श्वास हो तुम।
Neelam Sharma
आधुनिकता के इस दौर में संस्कृति से समझौता क्यों
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
नियति से प्रतिकार लो
Saraswati Bajpai
पढ़ते कहां किताब का
RAMESH SHARMA
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
बगिया का गुलाब प्यारा...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
इतना आसां कहां
कवि दीपक बवेजा
मुझकोमालूम नहीं था
gurudeenverma198
- मेरा ख्वाब मेरी हकीकत
bharat gehlot
हिकायत से लिखी अब तख्तियां अच्छी नहीं लगती।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेरे मन के भाव
Ram Krishan Rastogi
✍️कुछ चेहरे..
'अशांत' शेखर
मनु के वंशज
Shekhar Chandra Mitra
कोई ना अपना रहनुमां है।
Taj Mohammad
जीवन उत्सव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
योगी छंद विधान और विधाएँ
Subhash Singhai
*माँ बकरे की रोती(बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...