Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

खुदा का नूर

मुकद्दर से पराजित हो बहुत मजबूर होते है
तड़पते आह भरते प्यार में मशहूर होतें है
पिटे जब कैस जख्मी,दर्द में लैला,सुना होगा
कहो दिल से, असल में वे खुदा का नूर होते हैं।

Language: Hindi
1 Comment · 509 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sharda Madra
View all
You may also like:
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
जीवनसाथी
जीवनसाथी
Rajni kapoor
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
Sakshi Tripathi
क्यों न्यौतें दुख असीम
क्यों न्यौतें दुख असीम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"झूठ और सच" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बड़े हौसले से है परवाज करता,
बड़े हौसले से है परवाज करता,
Satish Srijan
ऑनलाईन शॉपिंग।
ऑनलाईन शॉपिंग।
लक्ष्मी सिंह
वो नई नारी है
वो नई नारी है
Kavita Chouhan
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
दर्द आँखों में आँसू  बनने  की बजाय
दर्द आँखों में आँसू बनने की बजाय
शिव प्रताप लोधी
आए प्रभु करके कृपा , इतने दिन के बाद (कुंडलिया)
आए प्रभु करके कृपा , इतने दिन के बाद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
अब किसे बरबाद करोगे gazal/ghazal By Vinit Singh Shayar
अब किसे बरबाद करोगे gazal/ghazal By Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
* जगेगा नहीं *
* जगेगा नहीं *
surenderpal vaidya
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
Monika Verma
विदाई गीत
विदाई गीत
Dr Archana Gupta
नहीं उनकी बलि लो तुम
नहीं उनकी बलि लो तुम
gurudeenverma198
Writing Challenge- नुकसान (Loss)
Writing Challenge- नुकसान (Loss)
Sahityapedia
এটি একটি সত্য
এটি একটি সত্য
Otteri Selvakumar
समाप्त वर्ष 2023 मे अगर मैने किसी का मन व्यवहार वाणी से किसी
समाप्त वर्ष 2023 मे अगर मैने किसी का मन व्यवहार वाणी से किसी
Ranjeet kumar patre
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे  दिया......
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे दिया......
Rakesh Singh
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
PRATIK JANGID
"परिवर्तन के कारक"
Dr. Kishan tandon kranti
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हमनें अपना
हमनें अपना
Dr fauzia Naseem shad
मैल
मैल
Gaurav Sharma
स्वरचित कविता..✍️
स्वरचित कविता..✍️
Shubham Pandey (S P)
Bhagwan sabki sunte hai...
Bhagwan sabki sunte hai...
Vandana maurya
✍️प्रेम की राह पर-71✍️
✍️प्रेम की राह पर-71✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
मकर राशि मे सूर्य का जाना
मकर राशि मे सूर्य का जाना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...