Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2022 · 1 min read

मुक्तक

लिख इबारत प्रेम की
नफरत से मुंह मोड़

प्रेम के आँचल तले एक दिन
रोशन हो जायेगी जिन्दगी तेरी

Language: Hindi
2 Likes · 218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
Ranjeet kumar patre
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
umesh mehra
अपनों के अपनेपन का अहसास
अपनों के अपनेपन का अहसास
Harminder Kaur
देश-विक्रेता
देश-विक्रेता
Shekhar Chandra Mitra
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
⭕ !! आस्था !!⭕
⭕ !! आस्था !!⭕
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मोहन कृष्ण मुरारी
मोहन कृष्ण मुरारी
Mamta Rani
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
Rohit yadav
तुमसे इश्क करके हमने
तुमसे इश्क करके हमने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*****रामलला*****
*****रामलला*****
Kavita Chouhan
I would never force anyone to choose me
I would never force anyone to choose me
पूर्वार्थ
#गहिरो_संदेश (#नेपाली_लघुकथा)
#गहिरो_संदेश (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
Manju Singh
मुकद्दर तेरा मेरा
मुकद्दर तेरा मेरा
VINOD CHAUHAN
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Sakshi Tripathi
अपना पीछा करते करते
अपना पीछा करते करते
Sangeeta Beniwal
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
Shashi kala vyas
"सरकस"
Dr. Kishan tandon kranti
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
If life is a dice,
If life is a dice,
DrChandan Medatwal
गुमनाम रहने दो मुझे।
गुमनाम रहने दो मुझे।
Satish Srijan
दीप आशा के जलें
दीप आशा के जलें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नादान था मेरा बचपना
नादान था मेरा बचपना
राहुल रायकवार जज़्बाती
अपना नैनीताल...
अपना नैनीताल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
एक कविता उनके लिए
एक कविता उनके लिए
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
2550.पूर्णिका
2550.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...