Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

“मानो या न मानो”

“मानो या न मानो”
मानो या न मानो
जीवन के खतरनाक जंगल में
असफलता से निपटने के लिए
इंसान को हुनर सीखना
निहायत जरूरी है,
क्योंकि जिन्दगी का
एक और नाम मजबूरी है।

5 Likes · 4 Comments · 150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
चैन से रहने का हमें
चैन से रहने का हमें
शेखर सिंह
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
कवि अनिल कुमार पँचोली
शृंगार छंद और विधाएँ
शृंगार छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
मन तो बावरा है
मन तो बावरा है
हिमांशु Kulshrestha
रिमझिम बरसो
रिमझिम बरसो
surenderpal vaidya
लग रहा है बिछा है सूरज... यूँ
लग रहा है बिछा है सूरज... यूँ
Shweta Soni
कवियों की कैसे हो होली
कवियों की कैसे हो होली
महेश चन्द्र त्रिपाठी
🙅शायद🙅
🙅शायद🙅
*प्रणय प्रभात*
हम उन्हें कितना भी मनाले
हम उन्हें कितना भी मनाले
The_dk_poetry
नव्य द्वीप का रहने वाला
नव्य द्वीप का रहने वाला
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Sûrëkhâ
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
gurudeenverma198
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
Anand Kumar
क्षितिज
क्षितिज
Dhriti Mishra
आया बसन्त आनन्द भरा
आया बसन्त आनन्द भरा
Surya Barman
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
शीर्षक:-आप ही बदल गए।
शीर्षक:-आप ही बदल गए।
Pratibha Pandey
"दर्द दर्द ना रहा"
Dr. Kishan tandon kranti
भक्तिभाव
भक्तिभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2614.पूर्णिका
2614.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
sushil sarna
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मनोरम तेरा रूप एवं अन्य मुक्तक
मनोरम तेरा रूप एवं अन्य मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
(हमसफरी की तफरी)
(हमसफरी की तफरी)
Sangeeta Beniwal
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
Rituraj shivem verma
Loading...