Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 1 min read

“मानो या न मानो”

“मानो या न मानो”
बिना स्वार्थ के
बिना मेल-मुलाकात के
प्रतिदिन याद करने वाले भी
सौभाग्य से मिलते हैं,
मानो या न मानो
ऐसे लोगों से हमारा
पूर्व जन्म के रिश्ते रहते हैं।

10 Likes · 3 Comments · 651 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
कई महीने साल गुजर जाते आँखों मे नींद नही होती,
कई महीने साल गुजर जाते आँखों मे नींद नही होती,
Shubham Anand Manmeet
किन्तु क्या संयोग ऐसा; आज तक मन मिल न पाया?
किन्तु क्या संयोग ऐसा; आज तक मन मिल न पाया?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शृंगार छंद
शृंगार छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
#बैठे_ठाले
#बैठे_ठाले
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल _ तुम फ़ासले बढ़ाकर किसको दिखा रहे हो ।
ग़ज़ल _ तुम फ़ासले बढ़ाकर किसको दिखा रहे हो ।
Neelofar Khan
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सूरज सा उगता भविष्य
सूरज सा उगता भविष्य
Harminder Kaur
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
Ram Krishan Rastogi
दर्द का बस एक
दर्द का बस एक
Dr fauzia Naseem shad
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
Deepak Baweja
कई बार मेरी भूल भी बड़ा सा ईनाम दे जाती है,
कई बार मेरी भूल भी बड़ा सा ईनाम दे जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बाबा महादेव को पूरे अन्तःकरण से समर्पित ---
बाबा महादेव को पूरे अन्तःकरण से समर्पित ---
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लहजा
लहजा
Naushaba Suriya
2880.*पूर्णिका*
2880.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
"संयोग"
Dr. Kishan tandon kranti
भावनाओं की किसे पड़ी है
भावनाओं की किसे पड़ी है
Vaishaligoel
किसको सुनाऊँ
किसको सुनाऊँ
surenderpal vaidya
मनुष्य जीवन है अवसर,
मनुष्य जीवन है अवसर,
Ashwini Jha
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
शायर देव मेहरानियां
शाम सुहानी
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
ऊंट है नाम मेरा
ऊंट है नाम मेरा
Satish Srijan
तुम वह दिल नहीं हो, जिससे हम प्यार करें
तुम वह दिल नहीं हो, जिससे हम प्यार करें
gurudeenverma198
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
कृष्णकांत गुर्जर
आज कल कुछ इस तरह से चल रहा है,
आज कल कुछ इस तरह से चल रहा है,
kumar Deepak "Mani"
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
Shubham Pandey (S P)
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
Anamika Singh
Loading...