Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

मानव तुम कौन हो

मानव तुम कौन हो ?

मानव तुम कौन हो ?
क्या तुम माँ के गर्भ में पले
उस भ्रूण का केवल
विकसित रूप हो जो
ईश्वर प्रदत्त एक निश्चित
आकृति ग्रहण किए है और
विकास के आधार पर
विभिन्न जीवन पद्धतियाँ
अपनाता जा रहा है ?
नहीं मानव ,
तुम्हारी केवल यही परिभाषा
नहीं हो सकती ,
तुम तो ईश्वर की वह
श्रेष्ठतम कृति हो जिसे
उसने विभिन्न वैचारिक,
बौद्धिक और शारीरिक क्षमताओं से
पुरस्कृत किया है,
जिससे तुम उसकी सृष्टि के
रक्षक बन सको ।
हे मानव !
ये तुम पर ही निर्भर है कि
तुम इन क्षमताओं द्वारा
अपनी कर्म स्थली सृष्टि की
कैसे रक्षा करते हो ?
ध्यान रखो मानव वो सृष्टिकर्ता
तुम्हारा परीक्षक भी है ,
उसकी दृष्टि तुम्हारे हर कर्म पर है ,
यदि तुमने अपनी क्षमताओं का
दुरुपयोग कर
सृष्टि के भक्षक का रूप लेलिया
तो वह तुमसे उनका
हनन भी कर सकता है ,
अब निर्णय तुम्हारे हाथ में है मानव !
कि तुम स्वयं को किस रूप में
परिभाषित करवाना चाहते हो
रक्षक या भक्षक ?

डॉ रीता सिंह
चन्दौसी सम्भल

Language: Hindi
4 Likes · 192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rita Singh
View all
You may also like:
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
Shashi kala vyas
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ढाई अक्षर वालों ने
ढाई अक्षर वालों ने
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी के साथ साथ ही,
जिंदगी के साथ साथ ही,
Neeraj Agarwal
झुक कर दोगे मान तो,
झुक कर दोगे मान तो,
sushil sarna
*मारा हमने मूक कब, पशु जो होता मौन (कुंडलिया)*
*मारा हमने मूक कब, पशु जो होता मौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मुझको मेरा हिसाब देना है
मुझको मेरा हिसाब देना है
Dr fauzia Naseem shad
جستجو ءے عیش
جستجو ءے عیش
Ahtesham Ahmad
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
Harminder Kaur
खोखली बातें
खोखली बातें
Dr. Narendra Valmiki
नम आँखे
नम आँखे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
2831. *पूर्णिका*
2831. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
Ranjeet kumar patre
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
Neet aspirant suicide in Kota.....
Neet aspirant suicide in Kota.....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बेटियां
बेटियां
Madhavi Srivastava
आना ओ नोनी के दाई
आना ओ नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
'बेटी की विदाई'
'बेटी की विदाई'
पंकज कुमार कर्ण
किसी को उदास देखकर
किसी को उदास देखकर
Shekhar Chandra Mitra
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
!! घड़ी समर की !!
!! घड़ी समर की !!
Chunnu Lal Gupta
मेरा वजूद क्या
मेरा वजूद क्या
भरत कुमार सोलंकी
■ दिवस विशेष तो विचार भी विशेष।
■ दिवस विशेष तो विचार भी विशेष।
*प्रणय प्रभात*
मुद्दा
मुद्दा
Paras Mishra
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
हम यह सोच रहे हैं, मोहब्बत किससे यहाँ हम करें
हम यह सोच रहे हैं, मोहब्बत किससे यहाँ हम करें
gurudeenverma198
मुझे आज तक ये समझ में न आया
मुझे आज तक ये समझ में न आया
Shweta Soni
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
Loading...