Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं

मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं

मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं
कुट नीति से कुचलवाद करना हैं

आंतंकी क्ररता की सारी सीमाएं पार कर जाते हैं
मुक पशुओं भी क्रुरता नहीं कर पाते हैं

संयुक्त राष्ट्र संघ को , उसे संपूर्ण विश्व
से हटाने की बारी आयी हैं

अब की बार संघ को उसे मिटाने की कारगर योजना बनाना हैं

धर्म मज़हबी कट्टरता ही आतंकी जड़े हैं ,
धार्मिक कट्टरता से जुनूनी भाषावादी जुड़े हैं ।

सत्ता के लोभी दोहरे चरित्र को छोड़ते नहीं हैं ,
अहिंसा के मूल्यों पर समझौता करते हैं ,
और उसके जड़ो पर पानी देते हैं

महान तो हमारे सैनिक हैं ,
जिसके शक्ति से रौनक हैं

करुणा , प्रेम , सत्य और अंहिसा के सुत्र अपनाना हैं
धर्मांध स्वार्थ त्याग कर मानवता को पाना हैं

आज हमें सभी को एकजुट होकर,
दुश्मन को मिटाना हैं
“एकजुटता” की शक्ति से शत्रु की जड़ें काटना हैं
000
– राजू गजभिये

Language: Hindi
1 Like · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सियासत में आकर।
सियासत में आकर।
Taj Mohammad
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
अशोक कुमार ढोरिया
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हर किसी का कर्ज़ चुकता हो गया
हर किसी का कर्ज़ चुकता हो गया
Shweta Soni
हारता वो है जो शिकायत
हारता वो है जो शिकायत
नेताम आर सी
ज़रा सा इश्क
ज़रा सा इश्क
हिमांशु Kulshrestha
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
Rj Anand Prajapati
■ तथ्य : ऐसे समझिए।
■ तथ्य : ऐसे समझिए।
*प्रणय प्रभात*
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
आँख मिचौली जिंदगी,
आँख मिचौली जिंदगी,
sushil sarna
जन-मन की भाषा हिन्दी
जन-मन की भाषा हिन्दी
Seema Garg
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
पूर्वार्थ
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
लोग बंदर
लोग बंदर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
चलो कुछ दूर तलक चलते हैं
चलो कुछ दूर तलक चलते हैं
Bodhisatva kastooriya
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कोहरा
कोहरा
Ghanshyam Poddar
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
मन का महाभारत
मन का महाभारत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुरु असीम ज्ञानों का दाता 🌷🙏
गुरु असीम ज्ञानों का दाता 🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नए साल की मुबारक
नए साल की मुबारक
भरत कुमार सोलंकी
कितना बदल रहे हैं हम ?
कितना बदल रहे हैं हम ?
Dr fauzia Naseem shad
Pardushan
Pardushan
ASHISH KUMAR SINGH
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
محبّت عام کرتا ہوں
محبّت عام کرتا ہوں
अरशद रसूल बदायूंनी
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
Pakhi Jain
जख्म भरता है इसी बहाने से
जख्म भरता है इसी बहाने से
Anil Mishra Prahari
2913.*पूर्णिका*
2913.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*साहित्यिक बाज़ार*
*साहित्यिक बाज़ार*
Lokesh Singh
Loading...