Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Dec 2023 · 1 min read

मानते हो क्यों बुरा तुम , लिखे इस नाम को

मानते हो क्यों बुरा तुम, लिखे इस नाम को।
करना सीखो तुम भी याद, लिखे इस नाम को।।
मानते हो क्यों बुरा तुम————————–।।

मैं नहीं लूँ अगर यह नाम तो, मैं किसको याद करुँ।
क्यों नहीं करते हो प्यार तुम, लिखे इस नाम को।।
मानते हो क्यों बुरा तुम————————–।।

मेरे लिए तो खुदा है, मेरे दोस्तों यह हिंदुस्तान।
इसलिए कहता हूँ मालिक, लिखे इस नाम को।।
मानते हो क्यों बुरा तुम————————–।।

राम,रहीम, कृष्ण,नानक, जन्मे हैं सभी यहीं पर।
दी है उन्होंने भी तवज्जोह, लिखे इस नाम को।।
मानते हो क्यों बुरा तुम————————–।।

यह तुम्हारी हस्ती भी तो, आबाद है इसी हिन्द से।
सिर झुकाकर सलाम करो तुम, लिखे इस नाम को।।
मानते हो क्यों बुरा तुम————————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

1 Like · 1 Comment · 129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2253.
2253.
Dr.Khedu Bharti
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
ऐ,चाँद चमकना छोड़ भी,तेरी चाँदनी मुझे बहुत सताती है,
ऐ,चाँद चमकना छोड़ भी,तेरी चाँदनी मुझे बहुत सताती है,
Vishal babu (vishu)
वाह रे मेरे समाज
वाह रे मेरे समाज
Dr Manju Saini
बच्चे
बच्चे
Shivkumar Bilagrami
मेरी हर इक ग़ज़ल तेरे नाम है कान्हा!
मेरी हर इक ग़ज़ल तेरे नाम है कान्हा!
Neelam Sharma
अपनों को दे फायदा ,
अपनों को दे फायदा ,
sushil sarna
हे ! अम्बुज राज (कविता)
हे ! अम्बुज राज (कविता)
Indu Singh
*कामदेव को जीता तुमने, शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
*कामदेव को जीता तुमने, शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
"ताकीद"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐ आसमां ना इतरा खुद पर
ऐ आसमां ना इतरा खुद पर
शिव प्रताप लोधी
जीवन का सफर
जीवन का सफर
Sidhartha Mishra
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हौसला
हौसला
डॉ. शिव लहरी
हकीकत उनमें नहीं कुछ
हकीकत उनमें नहीं कुछ
gurudeenverma198
* तुगलकी फरमान*
* तुगलकी फरमान*
Dushyant Kumar
‼️परिवार संस्था पर ध्यान ज़रूरी हैं‼️
‼️परिवार संस्था पर ध्यान ज़रूरी हैं‼️
Aryan Raj
गरीबी में सौन्दर्य है।
गरीबी में सौन्दर्य है।
Acharya Rama Nand Mandal
फितरत
फितरत
Dr fauzia Naseem shad
, गुज़रा इक ज़माना
, गुज़रा इक ज़माना
Surinder blackpen
गंगा मैया
गंगा मैया
Kumud Srivastava
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अगर मरने के बाद भी जीना चाहो,
अगर मरने के बाद भी जीना चाहो,
Ranjeet kumar patre
भावात्मक
भावात्मक
Surya Barman
जिसे मैं ने चाहा हद से ज्यादा,
जिसे मैं ने चाहा हद से ज्यादा,
Sandeep Mishra
ये तेरी यादों के साएं मेरे रूह से हटते ही नहीं। लगता है ऐसे
ये तेरी यादों के साएं मेरे रूह से हटते ही नहीं। लगता है ऐसे
Rj Anand Prajapati
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
सपना
सपना
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बेटियों को मुस्कुराने दिया करो
बेटियों को मुस्कुराने दिया करो
Shweta Soni
Loading...