Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2023 · 1 min read

* माई गंगा *

#justareminderekabodhbalak
#drarunkumarshastriblogger
हरि द्वार में गंगा तट पर
जय जय गंगा माई हो रही
शिव शंकर की जटा सूं निकसी
वैतरणी भव ते पार कर रही
पाप नाशिनी हिय संताप नाशिनी
गंगा सबके पाप धो रही
हरि द्वार में गंगा तट पर
जय जय गंगा माई हो रही
जो जो डुबकी इसमें लगाते
सो हो पार भव से हो जाते
मोक्ष दायिनी हिय सुहावनी
गंगा सबके पाप धो रही
हरि द्वार में गंगा तट पर
जय जय गंगा माई हो रही
बुरा न देखे खरा न देखे
सत्य असत्य को ना ये जाने
एक समान है दृष्टि जाकि
सम दृष्टा सम दया दिखावे
गंगा सबके पाप धो रही
हरि द्वार में गंगा तट पर
जय जय गंगा माई हो रही
मम अबोध ने दर्शन कर के
जय हो जय हो टेर लगाई
माँ गंगा ने आगे बढ़ कर
दिया प्रसाद न ली उतराई
गंगा सबके पाप धो रही
हरि द्वार में गंगा तट पर
जय जय गंगा माई हो रही

1 Like · 143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
बुक समीक्षा
बुक समीक्षा
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
असफलता
असफलता
Neeraj Agarwal
हाय हाय रे कमीशन
हाय हाय रे कमीशन
gurudeenverma198
थक गये है हम......ख़ुद से
थक गये है हम......ख़ुद से
shabina. Naaz
इधर उधर न देख तू
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
Dr. Man Mohan Krishna
मौला के घर देर है पर,
मौला के घर देर है पर,
Satish Srijan
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
कवि रमेशराज
महिला दिवस
महिला दिवस
Surinder blackpen
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"बिल्ली कहती म्याऊँ"
Dr. Kishan tandon kranti
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
Shweta Soni
इंसानियत
इंसानियत
साहित्य गौरव
🚩पिता
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रेमचन्द के पात्र अब,
प्रेमचन्द के पात्र अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किए जा सितमगर सितम मगर....
किए जा सितमगर सितम मगर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Tum khas ho itne yar ye  khabar nhi thi,
Tum khas ho itne yar ye khabar nhi thi,
Sakshi Tripathi
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
Harminder Kaur
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
goutam shaw
24/228. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/228. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*हजारों साल से लेकिन,नई हर बार होली है 【मुक्तक 】*
*हजारों साल से लेकिन,नई हर बार होली है 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
■ मुक्तक
■ मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
सोच
सोच
Sûrëkhâ Rãthí
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
Er. Sanjay Shrivastava
बाग़ी
बाग़ी
Shekhar Chandra Mitra
रिश्ता ऐसा हो,
रिश्ता ऐसा हो,
लक्ष्मी सिंह
जिन्दगी
जिन्दगी
Bodhisatva kastooriya
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
Jyoti Khari
Loading...