Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

“मां बनी मम्मी”

“मां बनी मम्मी”

‘मां’ बन गई है , जबसे मम्मी;
बाबूजी भी, बन गए हैं पापा;
सनातन में,ये शब्द परिवर्तन;
किसने किया है, हे! विधाता।

मम्मी में, मां सी वो त्याग कहां;
रात लोरी में,अब वो राग कहां;
माता पिता जैसा, समर्पण का;
मम्मी डैडी में,वो अंदाज कहां।

मम्मी तो अब, अपने मतंग रहती;
अपने जीवन से ही, वो तंग रहती;
‘मां’ वाली त्याग अब , दिखे कहां;
रिश्तों से बड़ा,पैसों के संग रहती।

बेटी में,मां की बात दिखती कहां;
मम्मी से,बेटी कुछ सीखती कहां;
बेटा भी जो थे , पिता संग घूमते;
अब पापा से दूर, घूमे जहां तहां।

मां सा सादगी , दिखती कहां संसार में;
मम्मी को दिखावा चाहिए , हर हाल में;
बाबूजी भी गए फस, मम्मी के जाल में;
बने वे जबरन,डैड व पापा इस काल में।

उसे; हम दो हमारे दो का , संस्कार है;
कम ही मम्मी के पास,बड़ा परिवार है;
निज माता पिता को भी,सब भूल गए;
क्या करे, डैडी या पापा भी लाचार है।

लगता अब नाम का भी,पूरा प्रभाव है;
नाम से ही , कई संस्कार का जुड़ाव है;
पहले मां थी;कौशल्या,राधा व सुमित्रा;
अब मम्मी बनी;पम्मी,जूली व विचित्रा।

मम्मी डैडी से बच्चों की , बढ़े दूरी यहां;
हे भारत की मम्मी , फिर से बनो तू मां;
आधुनिकता में, न डूबो हे अभिभावक;
संस्कार छोड़ सब,अब जा रहे हो कहां।
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°

स्वरचित सह मौलिक;
✍️पंकज कर्ण
…….कटिहार।

Language: Hindi
248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
एक अलग ही दुनिया
एक अलग ही दुनिया
Sangeeta Beniwal
काम से राम के ओर।
काम से राम के ओर।
Acharya Rama Nand Mandal
23/216. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/216. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चलो स्कूल
चलो स्कूल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बधाई
बधाई
Satish Srijan
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
एक बेटी हूं मैं
एक बेटी हूं मैं
अनिल "आदर्श"
जिंदगी गुज़र जाती हैं
जिंदगी गुज़र जाती हैं
Neeraj Agarwal
तुझे खुश देखना चाहता था
तुझे खुश देखना चाहता था
Kumar lalit
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
Rj Anand Prajapati
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पुण्य आत्मा
पुण्य आत्मा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पसन्द नहीं था खुदा को भी, यह रिश्ता तुम्हारा
पसन्द नहीं था खुदा को भी, यह रिश्ता तुम्हारा
gurudeenverma198
जीवन और रंग
जीवन और रंग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
खाने को रोटी नहीं , फुटपाथी हालात {कुंडलिया}
खाने को रोटी नहीं , फुटपाथी हालात {कुंडलिया}
Ravi Prakash
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
मैं हु दीवाना तेरा
मैं हु दीवाना तेरा
Basant Bhagawan Roy
जुदाई - चंद अशआर
जुदाई - चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
युवराज को जबरन
युवराज को जबरन "लंगोट" धारण कराने की कोशिश का अंतिम दिन आज।
*Author प्रणय प्रभात*
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
ruby kumari
💐प्रेम कौतुक-558💐
💐प्रेम कौतुक-558💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
Kshma Urmila
Mental health
Mental health
Bidyadhar Mantry
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
कवि रमेशराज
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
Loading...