Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 2 min read

मां का हृदय

माँ का हृदय
”””””””””””””’
फोन कटते ही निर्मला सोफे में धम्म से बैठ गई। उसके कानों में अब भी होने वाली बहू नेहा के एक-एक शब्द गूंज रहे थे। “एक मां अपने बच्चे के लिए अपशकुनी कैसे हो सकती है आंटी जी ? पांच साल की थी मैं, जब मेरे पिताजी की एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। एक बार भी झांक कर नहीं देखा मेरे चाचा-चाची ने कि हम दोनों मां-बेटी कैसे जी रही हैं और आज वे किस हक से मेरा कन्यादान करेंगे ? मेरी मां जो मेरे लिए पिता भी हैं, पिछले बीस सालों से ठीक से सोई नहीं, ताकि मेरी किस्मत न सो जाए। दिनभर दूसरों के घरों में झाड़ू-पोंछा और देर रात तक जाग-जाग कर सिलाई-कढ़ाई की और मुझे पढ़ाया लिखाया जिससे कि मैं आज यूनिवर्सिटी में लेक्चरर बन सकी हूं। बदले में मेरी मां, आज यदि पैंतालीस की उम्र में पैंसठ की दीख रही हैं, तो सिर्फ मुझे पाल-पोष कर बड़ा करने की खातिर । आंटी जी, मेरी मां मेरे लिए भगवान से भी बढ़कर है और मेरी दिली इच्छा है कि वही मेरा कन्यादान करें। आशा है आप मुझे निराश नहीं करेंगी।”
निर्मला एक बार फिर 25 साल पीछे चली गई जब उसकी शादी हो रही थी। तब वह चाहते हुए भी कुछ नहीं कर सकी थी और उसका कन्यादान उसके चाचा-चाची ने किया। उसकी मां घर के एक कोने में बैठ कर आंसू बहाती रही।
‘नहीं, नहीं। नेहा के साथ ऐसा नहीं होगा। नेहा का कन्यादान उसकी मां ही करेंगी। लोग क्या कहेंगे, उसकी परवाह मैं क्यों करूं। पच्चीस साल पहले तो मैं कुछ नहीं कर सकी, लेकिन आज पीछे नहीं रहूंगी।’
“हेलो… नमस्कार समधन जी। मैं निर्मला बोल रही हूं।… जरूरी बात करनी है आपसे। ध्यान से सुनिए मेरी बात।…. कल आपसे हमने कहा था कि शादी में हमारी कोई डिमांड नहीं है, पर आज मैं आपसे एक जरूरी डिमांड कर रही हूं। आशा है आप मुझे निराश नहीं करेंगी। …. देखिए डरिए मत। मैं कोई ऐसी वैसी डिमांड नहीं कर रही हूं।…. मेरी और मेरी होने वाली बहू दोनों की दिली इच्छा है कि नेहा का कन्यादान आप ही करें।…. आप ज्यादा मत सोचिए…. हां …. हां…. यदि आप नहीं मानेंगी तो मैं नेहा बिटिया की सास ही बन कर रह जाऊंगी, मां कभी नहीं बन सकूंगी।…. जी…. जी…. ठीक है। रखती हूं फोन। बाय।”
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*
*"अवध में राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
चयन
चयन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज़िंदगी थी कहां
ज़िंदगी थी कहां
Dr fauzia Naseem shad
मैं
मैं "आदित्य" सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
Be with someone you can call
Be with someone you can call "home".
पूर्वार्थ
माफ करना मैडम हमें,
माफ करना मैडम हमें,
Dr. Man Mohan Krishna
2938.*पूर्णिका*
2938.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" सब किमे बदलग्या "
Dr Meenu Poonia
आज भगवान का बनाया हुआ
आज भगवान का बनाया हुआ
प्रेमदास वसु सुरेखा
यादें
यादें
Dinesh Kumar Gangwar
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
Sukoon
गौर किया जब तक
गौर किया जब तक
Koमल कुmari
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जिंदगी,
जिंदगी,
हिमांशु Kulshrestha
एक ही तो, निशा बचा है,
एक ही तो, निशा बचा है,
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
AJAY AMITABH SUMAN
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिल -ए- ज़िंदा
दिल -ए- ज़िंदा
Shyam Sundar Subramanian
बृद्ध  हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
बृद्ध हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
आर.एस. 'प्रीतम'
समय बदल रहा है..
समय बदल रहा है..
ओनिका सेतिया 'अनु '
"श्रमिकों को निज दिवस पर, ख़ूब मिला उपहार।
*Author प्रणय प्रभात*
"रेल चलय छुक-छुक"
Dr. Kishan tandon kranti
बगुले तटिनी तीर से,
बगुले तटिनी तीर से,
sushil sarna
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
Ravi Prakash
तलाशता हूँ -
तलाशता हूँ - "प्रणय यात्रा" के निशाँ  
Atul "Krishn"
सारी हदों को तोड़कर कबूला था हमने तुमको।
सारी हदों को तोड़कर कबूला था हमने तुमको।
Taj Mohammad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
Rohit yadav
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...