Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2022 · 1 min read

माँ महागौरी

पूजन अष्टम रूप की, दिवस अष्टमी खास ।
माँ गौरी मन मोहिनी, है अटूट विश्वास।।
है अटूट विश्वास, चरण माँ शीश नवाते ।
पावन यह नवरात , गीत मंगल हम गाते।।
चूनर माँ की लाल, गौरता झलके नूतन ।
‘वंदन’ हो स्वीकार,सफल कर दो माँ पूजन ।।

वन्दना नामदेव

324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सियासत में आकर।
सियासत में आकर।
Taj Mohammad
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
मंजिल
मंजिल
Swami Ganganiya
मुहब्बत
मुहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
💐प्रेम कौतुक-527💐
💐प्रेम कौतुक-527💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अशोक चाँद पर
अशोक चाँद पर
Satish Srijan
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
★ बचपन और बारिश...
★ बचपन और बारिश...
*Author प्रणय प्रभात*
विनम्रता, साधुता दयालुता  सभ्यता एवं गंभीरता जवानी ढलने पर आ
विनम्रता, साधुता दयालुता सभ्यता एवं गंभीरता जवानी ढलने पर आ
Rj Anand Prajapati
हैं राम आये अवध  में  पावन  हुआ  यह  देश  है
हैं राम आये अवध में पावन हुआ यह देश है
Anil Mishra Prahari
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
गुप्तरत्न
* तपन *
* तपन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुरू शिष्य का संबन्ध
गुरू शिष्य का संबन्ध
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*रिवाज : आठ शेर*
*रिवाज : आठ शेर*
Ravi Prakash
सदा के लिए
सदा के लिए
Saraswati Bajpai
कहो कैसे वहाँ हो तुम
कहो कैसे वहाँ हो तुम
gurudeenverma198
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
Ajay Mishra
Jeevan Ka saar
Jeevan Ka saar
Tushar Jagawat
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
संत ज्ञानेश्वर (ज्ञानदेव)
संत ज्ञानेश्वर (ज्ञानदेव)
Pravesh Shinde
Kbhi kbhi lagta h ki log hmara fayda uthate hai.
Kbhi kbhi lagta h ki log hmara fayda uthate hai.
Sakshi Tripathi
कृतज्ञता
कृतज्ञता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हूं बहारों का मौसम
हूं बहारों का मौसम
साहित्य गौरव
गूंजेगा नारा जय भीम का
गूंजेगा नारा जय भीम का
Shekhar Chandra Mitra
2689.*पूर्णिका*
2689.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन का आत्मबोध
जीवन का आत्मबोध
ओंकार मिश्र
सुलगते एहसास
सुलगते एहसास
Surinder blackpen
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अधूरे ख़्वाब की जैसे
अधूरे ख़्वाब की जैसे
Dr fauzia Naseem shad
Loading...