Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2017 · 2 min read

माँ बडी अनमोल है माँ को तडपने तुम न दो

माँ बडी अनमोल है माँ को तडपने तुम न दो|
माँ अमृत की बूँद है माँ को बिलकने तुम न दो||
माँ की ममता तुम एेसे यूँ बिखरने तुम न दो|
माँ बडी अनमोल है माँ को तड़पने तुम न दो||१

माँ ही ब्रम्हा माँ ही बिष्णु माँ ही भोलेनाथ है|
हर मुस्किल मे बिन स्वार्थ देती यारो साथ है||
ईश्वर के इस लेख को तुम बदलने अब न दो|
माँ बडी अनमोल है माँ को तडपने तुम न दो||२

माँ ही गंगा माँ ही यमुना माँ कावेरी रेवा है|
तत्पररहकरयारोसुनलो करतीसबकीसेवा है||
नदी सागर तालाबो को,यारो मरने तुम न दो|
माँ बडी अनमोल है माँ को तडपने तुम न दो||३

माँ ही मृत्यु माँ ही जीवन माँ ही यारो प्राण है|
सारे जगका सुनलो यारो करती माँ कल्याण है||
सारे जग को एेसे यारो यूँ बदलने तुम न दो|
माँ बडी अनमोल है माँ को तडपने तुम न दो||४

माँ ही भव है माँ ही सागर सबको जग से तार दे|
सारी जिंदगी खुशहाली से यारो माँ गुजार दे||
बूढ़ी माँ तुम यूँ अपनी यूँ बिलकने तुम न दो|
माँ बडी अनमोल है माँ को तडपने तुम न दो||५

माँ ही दृृष्टि माँ ही श्रृष्टि माँ ही सब संसार है|
माँ ही सच्चा यार यारो, माँ ही सबका प्यार है||
सारी श्रृष्टि तुम यारो यूँ उजड़ने तुम न दो|
माँ बडी अनमोल है माँ को तडपने तुम न दो||६

माँ की सेबा करलो यारो माँ ही देती जान है|
माँ का ही दुलारा है तू माँ का ही तो प्राण है||
माँ की इच्छाओ को यारो यूँ बिखरने तुम न दो|
माँ बडी अनमोल है माँ को तडपने तुम न दो||७
कृष्णकांत गुर्जर
मो.7804060303

2 Likes · 1 Comment · 810 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Wishing power and expectation
Wishing power and expectation
Ankita Patel
When we constantly search outside of ourselves for fulfillme
When we constantly search outside of ourselves for fulfillme
Manisha Manjari
"मां बनी मम्मी"
पंकज कुमार कर्ण
* उपहार *
* उपहार *
surenderpal vaidya
बेबसी (शक्ति छन्द)
बेबसी (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
*जीवन का झंझावातों से, हर दिन का नाता है (मुक्तक)*
*जीवन का झंझावातों से, हर दिन का नाता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आश पराई छोड़ दो,
आश पराई छोड़ दो,
Satish Srijan
Ghughat maryada hai, majburi nahi.
Ghughat maryada hai, majburi nahi.
Sakshi Tripathi
'उड़ान'
'उड़ान'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
काग़ज़ के पुतले बने,
काग़ज़ के पुतले बने,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अब कौन सा रंग बचा साथी
अब कौन सा रंग बचा साथी
Dilip Kumar
दिन भर रोशनी बिखेरता है सूरज
दिन भर रोशनी बिखेरता है सूरज
कवि दीपक बवेजा
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
#यादों_का_झरोखा-
#यादों_का_झरोखा-
*Author प्रणय प्रभात*
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"मौत की सजा पर जीने की चाह"
Pushpraj Anant
बोलो क्या कहना है बोलो !!
बोलो क्या कहना है बोलो !!
Ramswaroop Dinkar
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
"स्वप्न".........
Kailash singh
तू तो होगी नहीं....!!!
तू तो होगी नहीं....!!!
Kanchan Khanna
बाल कहानी- डर
बाल कहानी- डर
SHAMA PARVEEN
मेनका की ‘मी टू’
मेनका की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपनी सोच का शब्द मत दो
अपनी सोच का शब्द मत दो
Mamta Singh Devaa
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मेरा परिचय
मेरा परिचय
radha preeti
सच तो कुछ भी न,
सच तो कुछ भी न,
Neeraj Agarwal
"माटी-तिहार"
Dr. Kishan tandon kranti
🙏🙏
🙏🙏
Neelam Sharma
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
जगदीश शर्मा सहज
23/153.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/153.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...