Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2017 · 1 min read

माँ, तुम्हीं तो हो

माँ, तुम्हीं तो हो….
माँ, तुम्हीं तो हो नींव परिवार की,
तुम्हारें बिना अधूरी है,जिंदगी सभी की ।
माँ, साधारण- सा वाक्य भी अधूरा बिना क्रिया के,
मैं भी असहाय हूँ, बिना तेरे आँचल के ।

माँ, तुम्हीं तो हो, जो अपने दामन में समा लेती है, मुसीबतों के सैलाब,
छू भी नहीं पाते है, मुझको वे सैलाब ।
माँ, खेतों में बीज फूटते है, खिल जाती है क्यारियाँ,
पर मुझे तो मिलता सुकून जब सुनाती तुम लोरियाँ ।

माँ, तुम्हीं तो हो, जिसने ना जाने कितनी रातें काटी, बिना पलक झपकाए,
नहीं उतार सकते तेरा क़र्ज, क्यो डरते है? सब करने से तेरी सेवा ।
माँ, ख्वाब देखा, हिमालय और सागर बोले, “मुझ में समा जा छू लेगा ऊँचाईयों को ।”
फिर तुझे देखा माँ तुमने कहा, “धैर्य रख, मत भाग झूठी दुनिया के पीछे, छू लेगा ऊँचाईयों को ।”
माँ, तुम्हें क्या कह कर पुकारू,
संस्कारो की देवी…
लोरियों की रानी…
मंत्रों की खुशबू…
माँ, तुम्हीं तो हो, मेरी पहचान , माँ, तुम्हीं तो हो, मेरी ताकत,
माँ, तुम्हीं तो हो, विश्वास….मेरी मुस्कान
सजता है,मन मंदिर तुझसे माँ…..

Language: Hindi
3 Likes · 4 Comments · 335 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】*
*दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
दोहा छंद विधान
दोहा छंद विधान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
3247.*पूर्णिका*
3247.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
पूर्वार्थ
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
Sunil Suman
अपनी अपनी मंजिलें हैं
अपनी अपनी मंजिलें हैं
Surinder blackpen
नामुमकिन
नामुमकिन
Srishty Bansal
"मैं सोच रहा था कि तुम्हें पाकर खुश हूं_
Rajesh vyas
समय की कविता
समय की कविता
Vansh Agarwal
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर समस्त नारी शक्ति को सादर
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर समस्त नारी शक्ति को सादर
*Author प्रणय प्रभात*
मां
मां
Amrit Lal
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
युवा है हम
युवा है हम
Pratibha Pandey
ज़िदगी के फ़लसफ़े
ज़िदगी के फ़लसफ़े
Shyam Sundar Subramanian
इतने बीमार
इतने बीमार
Dr fauzia Naseem shad
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
Harminder Kaur
*जय माँ झंडेया वाली*
*जय माँ झंडेया वाली*
Poonam Matia
💐अज्ञात के प्रति-116💐
💐अज्ञात के प्रति-116💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
Neelam Sharma
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
हरवंश हृदय
मृत्यु शैय्या
मृत्यु शैय्या
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
Dr MusafiR BaithA
संत कबीरदास
संत कबीरदास
Pravesh Shinde
धन्यवाद कोरोना
धन्यवाद कोरोना
Arti Bhadauria
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सत्य कुमार प्रेमी
अपने जीवन के प्रति आप जैसी धारणा रखते हैं,बदले में आपका जीवन
अपने जीवन के प्रति आप जैसी धारणा रखते हैं,बदले में आपका जीवन
Paras Nath Jha
Loading...