Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

महाकाल का संदेश

बोले कालों के महाकाल, सुन धरती के इंसान रे
छलक रहीं अमृत की बूंदें, पान करो इंसान रे
हिंसा छोड़ो जीवन जोड़ो, प्रेम का दो पैगाम रे
दुर्लभ मनुज जन्म है पाया, कर ले कुछ सत् काम रे कोई ईश्वर कोई अल्लाह कोई कहे भगवान रे
उसके तो हैं नाम अनेकों लड़ने का क्या काम रे
सत्य शांति दया क्षमा, धर्म के लक्षण हैं इंसान रे
हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई, सब तो है इंसान रे
मानव हो मानवता जोड़ो, हिंसा का कर काम तमाम रे एक पिता है एक ही माता, मानव अमृत पुत्र कहाता एक ही मालिक सारे जग का, उसके हैं कई नाम रे
क्यों भूल रहे हो गोली से क्यों जहर उगलते गोली से क्यों फैला आतंक जगत में, क्यों मार रहे इंसान रे
कौन है हिंदू कौन है मुस्लिम कौन सिया को सुननी कौन सिख ईसाई यहूदी, सब तो है इंसान रे
क्यों मंदिर में खून बहाते, क्यों मस्जिद में मारे जाते क्यों धू धू कर जलते गिरजे गुरुद्वारे सकल जहान रे अपने दिल में सोच जरा, इंसान हो या शैतान रे
धरती मां हो रही दुखारी, मुझ पर हिंसा करो ना भारी व्यर्थ नहीं बदनाम धर्म हो, मानवता का नहीं क्षरण हो जाग जाग इंसान रे
उठो हे धरतीपुत्र उठो, उठो अल्लाह के बंदों
हिंसा नहीं प्रेम फैलाओ, मिलकर सब आतंक मिटाओ अमन शांति और प्रेम प्रीत से, दुनिया बने महान रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
565 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
कुंती कान्हा से कहा,
कुंती कान्हा से कहा,
Satish Srijan
💐श्री राम भजन💐
💐श्री राम भजन💐
Khaimsingh Saini
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
International  Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
Mahender Singh
कहां नाराजगी से डरते हैं।
कहां नाराजगी से डरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
"जून की शीतलता"
Dr Meenu Poonia
किसी के दिल में चाह तो ,
किसी के दिल में चाह तो ,
Manju sagar
काला दिन
काला दिन
Shyam Sundar Subramanian
फितरत में वफा हो तो
फितरत में वफा हो तो
shabina. Naaz
ख़ुदी के लिए
ख़ुदी के लिए
Dr fauzia Naseem shad
रचो महोत्सव
रचो महोत्सव
लक्ष्मी सिंह
सुनो तुम
सुनो तुम
Sangeeta Beniwal
अब ना होली रंगीन होती है...
अब ना होली रंगीन होती है...
Keshav kishor Kumar
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
Rituraj shivem verma
पत्नी के जन्मदिन पर....
पत्नी के जन्मदिन पर....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
Ravi Prakash
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
खिलते फूल
खिलते फूल
Punam Pande
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2583.पूर्णिका
2583.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
समझौता
समझौता
Dr.Priya Soni Khare
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
Rj Anand Prajapati
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kumar lalit
■ मूर्खतापूर्ण कृत्य...।।
■ मूर्खतापूर्ण कृत्य...।।
*Author प्रणय प्रभात*
कृष्ण सुदामा मित्रता,
कृष्ण सुदामा मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सज जाऊं तेरे लबों पर
सज जाऊं तेरे लबों पर
Surinder blackpen
आज़ाद हूं मैं
आज़ाद हूं मैं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...