Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2024 · 1 min read

महत्व

कागज को अपने उजले रूप पर अभिमान हो गया। उसने एक दिन कलम से कहा- जब भी तुम चलती हो, सिर से पैर तक स्याह कर देती हो।

कलम से रहा न गया। उसने कहा- तेरा उजला तन किसी काम का नहीं, अगर मैं इन स्याह अक्षरों से भर ना दूँ। तुम्हें इसके बगैर सम्हाल कर रखेगा भी कौन और भला क्यों? दरअसल मेरे द्वारा लिखे गए अक्षर ही आभूषण की तरह तेरा रूप निखारता है।

कागज अब समझ गया था कि काले-गोरे का महत्व नहीं है, वरन महत्व गुणों का है।

मेरी प्रकाशित कृति : मन की आँखें (लघुकथा संग्रह) से,,,।
मेरी समस्त लघुकथाएँ “दलहा, भाग 1 से 7” में संग्रहित हैं।

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति
लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड प्राप्त
हरफनमौला साहित्य लेखक।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
मस्ती को क्या चाहिए ,मन के राजकुमार( कुंडलिया )
मस्ती को क्या चाहिए ,मन के राजकुमार( कुंडलिया )
Ravi Prakash
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जब सांझ ढल चुकी है तो क्यूं ना रात हो
जब सांझ ढल चुकी है तो क्यूं ना रात हो
Ravi Ghayal
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
sushil sarna
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
Vedha Singh
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
The_dk_poetry
सरस रंग
सरस रंग
Punam Pande
"अदा"
Dr. Kishan tandon kranti
-0 सुविचार 0-
-0 सुविचार 0-
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज कल कुछ लोग काम निकलते ही
आज कल कुछ लोग काम निकलते ही
शेखर सिंह
■ फ़ोकट का एटीट्यूड...!!
■ फ़ोकट का एटीट्यूड...!!
*Author प्रणय प्रभात*
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
मेरी ज़िंदगी की हर खुली क़िताब पर वो रंग भर देता है,
मेरी ज़िंदगी की हर खुली क़िताब पर वो रंग भर देता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Dr Parveen Thakur
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
Shekhar Chandra Mitra
वो बचपन था
वो बचपन था
Satish Srijan
जंगल ये जंगल
जंगल ये जंगल
Dr. Mulla Adam Ali
World stroke day
World stroke day
Tushar Jagawat
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अपने  ही  हाथों  से अपना, जिगर जलाए बैठे हैं,
अपने ही हाथों से अपना, जिगर जलाए बैठे हैं,
Ashok deep
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
2492.पूर्णिका
2492.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शिवा कहे,
शिवा कहे, "शिव" की वाणी, जन, दुनिया थर्राए।
SPK Sachin Lodhi
Loading...